नई दिल्ली, पीटीआइ। जुलाई महीने में जीएसटी कलेक्शन 1.16 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा रहा। इस तरह देखा जाए तो पिछले साल के जुलाई महीने की तुलना में इस साल जुलाई में 33 फीसद ज्यादा जीएसटी कलेक्शन हुआ। यह इस बात को दिखाता है इकोनॉमी तेज रफ्तार से रिकवरी कर रही है। वित्त मंत्रालय ने रविवार को यह बात कही। आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले साल जुलाई में 87,422 करोड़ रुपये का गुड्स एंड सर्विसेज (GST) कलेक्शन हुआ था। मासिक आधार पर देखा जाए तो जून में 92,849 करोड़ रुपये का जीएसटी संग्रह हुआ था।

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि जुलाई, 2021 में जीएसटी कलेक्शन 1,16,393 करोड़ रुपये पर रहा। इनमें से सेंट्रल जीएसटी मद में 22,197 करोड़ रुपये, स्टेट जीएसटी मद में 28,541 करोड़ रुपये, इंटीग्रेटेड जीएसटी के रूप में 57,864 करोड़ रुपये (27,900 करोड़ रुपये के आयात शुल्क सहित) और सेस के रूप में 7,790 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात से प्राप्त 815 करोड़ रुपये सहित) का कलेक्शन हुआ।

इस साल जुलाई महीने में जीएसटी के जरिए राजस्व संग्रह पिछले साल के समान महीने की तुलना में 33 फीसद ज्यादा रहा।

आलोच्य महीने के दौरान वस्तुओं के आयात से प्राप्त होने वाले टैक्स राजस्व में 36 फीसद की बढ़ोत्तरी देखने को मिली। इसी तरह घरेलू लेनदेन से टैक्स कलेक्शन में पिछले साल जुलाई के मुकाबले इस साल जुलाई में 32 फीसद का उछाल दर्ज किया गया।

वित्त मंत्रालय ने कहा है, ''आठ माह तक एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का जीएसटी कलेक्शन रिकॉर्ड किया गया। इसके बाद जून, 2021 में यह घटकर एक लाख करोड़ रुपये के स्तर के नीचे आ गया क्योंकि जून, 2021 का कलेक्शन मुख्य रूप से मई, 2021 से जुड़ा हुआ था। मई, 2021 में अधिकतर राज्य या केंद्रशासित प्रदेशों में कोविड की वजह से पूर्ण या आंशिक लॉकडाउन था।''

मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ''कोविड-19 से जुड़ी पाबंदियों में ढील दिए जाने से जुलाई, 2021 में जीएसटी कलेक्शन एक बार फिर एक लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गया। यह स्पष्ट तौर पर इस तरफ संकेत देता है कि इकोनॉमी तेज रफ्तार से रिकवरी कर रही है। आने वाले दिनों में मजबूत जीएसटी कलेक्शन जारी रहने की उम्मीद है।''

Edited By: Ankit Kumar