नई दिल्ली, पीटीआइ। कोरोना वायरस महामारी की वजह से शेयर बाजारों में निवेश बहुत हद तक प्रभावित हुआ है। साथ ही वैश्विक अर्थव्यवस्था पर भी जबरदस्त असर देखने को मिला है। हालांकि, इन सबके बीच Gold ETF Scheme में निवेशक जमकर पैसा लगा रहे हैं। अकेले अप्रैल में निवेशकों ने Gold Exchange-Traded Funds में 731 करोड़ रुपये का निवेश किया। पिछले साल यह बेहतर प्रदर्शन करने वाले एसेट क्लासेज में शामिल रहा था। अगस्त, 2019 से Gold ETF सेग्मेंट में 2,414 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश देखने को मिला है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड इन इंडिया (Amfi) के हालिया आंकड़ों के मुताबिक मार्च के 195 करोड़ रुपये के मुकाबले अप्रैल में निवेशकों ने Gold ETF में 731 करोड़ रुपये लगाए।

जनवरी से Gold ETF में निवेश में तेजी

इस कैटेगरी में फरवरी में 1,483 करोड़ रुपये और जनवरी में 202 करोड़ रुपये का निवेश देखने को मिला था। उससे पहले दिसंबर में इस श्रेणी में 27 करोड़ रुपये और नवंबर में 7.68 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था।  

'Groww' के सह-संस्थापक और सीओओ हर्ष जैन ने कहा, ''अप्रैल में भारी निवेश इस बात की ओर इशारा करते हैं कि निवेशक अब भी सोना खरीद रहे हैं। इक्विटी मार्केट में मंदी का रुख होने पर ऐसा देखने को मिलता है। लॉकडाउन और इसकी वजह से आर्थिक सुस्ती के चलते निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं।'' 

सेफ हैवेन की वजह से निवेशकों की बढ़ी दिलचस्पी

Morningstar Investment Adviser India में सीनियर रिसर्च एनालिस्ट (मैनेजर रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्तव ने भी इसी तरह की राय जाहिर की। उन्होंने कहा, ''कोरोनावायरस महामारी दुनियाभर की अर्थव्यवस्था और बाजारों पर भारी पड़ी है। हालांकि, ऐसे समय में सेफ हैवेन माने जाने वाला गोल्ड निवेशकों की पसंद के रूप में उभरा है।'' 

उन्होंने साथ ही कहा कि सोने की कीमतों में उछाल से निवेशकों के समक्ष मुनाफावसूली का भी मौका है और वे इसी बीच इसका अच्छा इस्तेमाल कर सकते हैं। श्रीवास्तव ने कहा कि कोरोनवायरस महामारी ने वैश्विक अर्थव्यवस्था और बाजार के लिए जिस तरह का खतरा पैदा किया है, उस वजह से गोल्ड निवेशकों को आकर्षित करता रहेगा।

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस