नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कनाडा स्थित फेयरफैक्स समूह द्वारा समर्थित गो डिजिट जनरल इंश्योरेंस लिमिटेड (Go Digit General Insurance) ने आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के माध्यम से धन जुटाने के लिए बाजार नियामक सेबी के पास प्रारंभिक दस्तावेज दाखिल किए हैं। रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) के मसौदे के अनुसार, IPO में 1,250 करोड़ रुपये के इक्विटी शेयर और एक प्रमोटर और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 10,94,45,561 इक्विटी शेयरों का ऑफर-फॉर-सेल (OFS) शामिल है।

ऑफर-फॉर-सेल के तहत गो डिजिट इन्फोवर्क्स सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड 10,94,34,783 इक्विटी शेयर बेचेगी। साथ ही कंपनी 250 करोड़ रुपये तक के इक्विटी शेयरों के प्री-आईपीओ प्लेसमेंट पर विचार कर सकती है। आईपीओ से प्राप्त राशि का उपयोग कंपनी के पूंजी आधार को बढ़ाने और लॉन्डरिंग कैपिसिटी के स्तर में सुधार के साथ सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के रख-रखाव के लिए किया जाएगा।

गो डिजिट ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए मोटर, स्वास्थ्य, यात्रा, संपत्ति, समुद्री, और अन्य बीमा उत्पाद प्रदान करता है। यह भारत में पहली गैर-जीवन बीमा कंपनियों में से एक है जो पूरी तरह से क्लाउड पर संचालित होती है और इसने कई भागीदारों के साथ एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस (एपीआई) सिस्टम विकसित किया है। ड्राफ्ट पेपर के अनुसार, क्रिकेटर विराट कोहली और उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा गो डिजिट जनरल इंश्योरेंस के निवेशकों में शामिल हैं। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, मॉर्गन स्टेनली इंडिया कंपनी, एक्सिस कैपिटल, एडलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज, एचडीएफसी बैंक और आईआईएफएल सिक्योरिटीज इस इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं। कंपनी के इक्विटी शेयर बीएसई और एनएसई पर लिस्ट होंगे।

क्या होता है आईपीओ

आईपीओ का मतलब है प्रारंभिक पब्लिक ऑफरिंग (Initial Public Offering)। आईपीओ (IPO)  एक कंपनी के द्वारा लाया जाता है। आईपीओ के जरिए कोई भाी कंपनी स्टॉक मार्केट में उतरकर शेयर के बदले लोगों से पैसा इकट्ठा कर सकती है। आसान शब्दों में कहें तो जब कोई भी कंपनी जब अपने शेयर को पहली बार आम जनता के बाजार में उतारती है, तो उसे ही आईपीओ कहा जाता है।

Edited By: Siddharth Priyadarshi