नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। देश की आर्थिक वृद्धि में अगले साल तक मामूली सुधार के जारी रहने की उम्मीद है और यह वित्त वर्ष 2018-19 में 7.2 फीसद के स्तर तक पहुंच सकती है। वहीं चालू वित्त वर्ष में यह 6.5 फीसद तक रह सकती है। बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफा-एमएल) की एक रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया गया है।

वैश्विक ब्रोकरेज बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफाएमएल) के अनुसार, निवेश के बजाए उपभोग के चलते आर्थिक सुधार जारी रहेगा। इसे चुनाव पूर्व सार्वजनिक खर्चों में इजाफे के फैसले से समर्थन मिलेगा जो कि सरप्लस कैपिसिटी को मजबूत करेगा और राजकोषीय घाटे को जीडीपी के 3.2 फीसद के लक्ष्य तक लाने में मदद करेगा। इस रिपोर्ट में कहा गया, “हम उम्मीद करते करते हैं कि साल 2018 तक भारतीय अर्थव्यवस्था में थोड़ा बहुत सुधार जारी रहेगा।

वित्त वर्ष 2018-19 में भारत की जीडीपी ग्रोथ 7.2 फीसद तक पहुंच सकती है।, वहीं वित्त वर्ष 2017-18 में यह 6.5 फीसद रह सकती है। भारत की ग्रोथ जो कि 5.5 से 6 फीसद की पुरानी सीरीज पर ट्रेंड कर रही है उसके 7 फीसद के ट्रेंड में जारी रहने की उम्मीद है। यह तमाम अर्थव्यवस्थाओं की विपरीत स्थिति है, जिसमें अमेरिका भी शामिल है और इनमें इससे ज्यादा की क्षमता है।”

गौरतलब है कि चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में भारत की जीडीपी ग्रोथ 6.3 फीसद पर रही थी जो कि जून तिमाही के दौरान 5.7 फीसद पर रही थी जो कि बीते तीन सालों का निचला स्तर है।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप