नई दिल्ली, पीटीआइ। इस साल अगस्त के महीने तक रिटायरमेंट बॉडी EPFO के तहत सब्सक्राइबर्स की तादाद 14.81 लाख सब्सक्राइबर की हो गई। यह आंकड़ा इस वित्तीय वर्ष के पहले पांच महीनों के दौरान EPFO के तहत पेरोल होने की बढ़ती प्रवृत्ति को दर्शाता है।

श्रम मंत्रालय की तरफ से एक बयान जारी करते हुए यह जानकारी दी गई है कि, बुधवार को जारी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के अस्थायी पेरोल डेटा को जारी किया गया है। इसके अनुसार EPFO ने अगस्त 2021 के महीने में लगभग 14.81 लाख नेट सब्सक्राइबर्स जोड़े हैं। यह डाटा चालू वित्त वर्ष के पहले पांच महीनों के लिए पेरोल में बढ़ती प्रवृत्ति को दर्शाता है।

इसके अलावा जारी किए गए आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि, जुलाई महीने की तुलना में अगस्त में सबस्क्राइबर्स की संख्या में, 12.61 फीसद की बढ़ोतरी हुई है। EPFO के कुल 14.81 लाख सब्सक्राइबर्स में से 9.19 लाख ऐसे सब्सक्राइबर्स हैं जो पहली बार EPFO के तहत सामाजिक सुरक्षा के दायरें में आए हैं।

हालांकि, ईपीएफ और एमपी अधिनियम, 1952 के दायरे में आने वाले प्रतिष्ठानों के भीतर नौकरी बदलकर लगभग 5.62 लाख सब्सक्राइबर्स EPFO से बाहर निकल गए थे। लेकिन वे दोबारा से EPFO में शामिल हो गए हैं।

पोरोल के आंकड़ों से पता चलता है कि, 22 से 25 वर्ष के आयु वर्ग लोगों की तादाद सबसे ज्यादा रही जो कि, 4.03 लाख है। 18 से 21 साल की उम्र में 3.25 लोग EPFO के सदस्य बने। इन आंकड़ों से यह पता चलता है कि, पहली बार नौकरी करने वाले लोग वाले बड़ी तादाद में संगठित क्षेत्र के कार्यबल में शामिल हो रहे हैं। इन्होंने अगस्त में कुल सब्सक्राइबर्स की संख्या में इनका लगभग 49.18 फीसद का योगदान है।

इस दौरान कुल महिला सब्सक्राइबर्स की तादाद 20 फीसद तक रही। जुलाई 2021 की तुलना में अगस्त महीने में महिला सदस्यों की कुल संख्या में लगभग 10.18 फीसद की बढ़ोतरी देखी गई है।

Edited By: Abhishek Poddar