नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अब वो जमाना गया, जब लोग एक ही नौकरी करते हुए पूरी जिंदगी गुजार देते थे। आजकल के युवा नियमित अंतराल के बाद नौकरी बदल देते हैं। ऐसे में हर बार नया पीएफ अकाउंट खुलवाना पड़ता था। इस चक्कर को खत्म करने के लिए Employees’ Provided Fund Organisation (EPFO) ने हर व्यक्ति को 12 अंक का Universal Account Number (UAN) देने की शुरुआत की थी। इससे आपको तमाम तरीके की सुविधाएं मिलती हैं। नियमों के मुताबिक एक व्यक्ति का एक ही UAN होना चाहिए लेकिन कई बार एक ही व्यक्ति के एक से ज्यादा यूएएन हो जाते हैं। ऐसा आम तौर पर नई नौकरी ज्वाइन करते समय UAN उपलब्ध नहीं कराने के कारण होता है। ऐसे में आप इस उलझन में पड़ जाते होंगे कि एक से अधिक UAN को कैसे Merge कराया जाए।  

इस वजह से जेनरेट हो जाते हैं दो UAN

  1. नौकरी बदलने पर कर्मचारी को अपना पुराना UAN और Member id बताना होता है। अगर जॉब बदलने के समय कर्मचारी यह जानकारी नहीं देता है तो नया नियोक्ता नया UAN और EPF account खोल देता है।
  2. आपके कंपनी छोड़ने के बाद पुराने नियोक्ता को इलेक्ट्रॉनिक चालान एंड रिटर्न में कर्मचारी का 'Date of Exit' भरना होता है। अगर यह जानकारी समय पर नहीं दी जाती है तो नई कंपनी कर्मचारी को नया UAN अलॉट कर देता है।

अगर आपके एक से ज्यादा UAN हैं तो आपको पुराने यूएएन को डिएक्टिवेट कराना होता है क्योंकि एक ही समय में दो एक्टिव UAN रखना नियम के विरुद्ध है। आइए जानते हैं कि आप अपने पुराने UAN को किस प्रकार डिएक्टिवेट करा सकते हैं। 

  • इस मुद्दे को अपने नियोक्ता यानी employer या EPFO के समक्ष रखें।
  • अपने वर्तमान और पहले के UAN की जानकारी को दर्ज करते हुए uanepf@epfindia.gov.in पर ईमेल भेजें।
  • EPFO इस संबंध में वेरिफिकेशन करेगा और आपके पुराने UAN को ब्लॉक कर देगा जबकि आपके वर्तमान UAN को एक्टिव रखा जाएगा।
  • ब्लॉक किये गए UAN से लिंक EPF अकाउंट को नए और एक्टिव अकाउंट में ट्रांसफर करने के लिए एक क्लेम सबमिट करें।

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस