नई दिल्ली, पीटीआइ। खाद्य पदार्थों के दाम बढ़ने से जनवरी महीने में खुदरा महंगाई दर 7.59 फीसद तक बढ़ गई है। बुधवार को सरकार ने महंंगाई दर के आंंकड़े जारी किए। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) आधारित खुदरा महंगाई दिसंबर 2019 में 7.35 फीसद और पिछले साल जनवरी में 1.97 फीसद  थी।

जनवरी 2019 में (-) 2.24 फीसद की तुलना में पिछले महीने खाद्य महंगाई 13.63 फीसद थी। हालांकि, यह दिसंबर के 14.19 फीसद की तुलना में कम रही है।

भारतीय रिजर्व बैंक ने इस महीने उच्च महंगाई दर के कारण मुख्य नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं किया था।

एमके ग्‍लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड (करेंसी) राहुल गुप्‍ता ने खुदरा महंगाई दर में हुई बढ़ोत्‍तरी के बारे में कहा, 'खाद्य महंगाई में हुई जबरदस्‍त बढ़ोत्‍तरी की वजह से खुदरा महंगाई दर जनवरी 2020 में छह साल के उच्‍च स्‍तर 7.59 फीसद के स्‍तर पर पहुंच गई है जो दिसंबर 2019 में 7.35 फीसद थी। यह लगातार दूसरा महीना है जब खुदरा महंगाई दर भारतीय रिजर्व बैंक के ऊपरी सीमा के पार गई है। महंगाई दर बढ़ने की वजह से आरबीआई दिसंबर 2019 से नीतिगत दरों में कोई कटौती नहीं कर रहा है। अगर महंगाई दर 6 फीसद के ऊपर बनी रहती है तो हमें उम्‍मीद नहीं है कि आरबीआई दरों में कोई कटौती करेगा।' 

खुदरा महंगाई भारतीय रिजर्व बैंक के चौथे महीने के लिए 4 फीसद के लक्ष्य से आगे निकल गई है। जनवरी में सब्जियों की महंगाई दर 50.19 फीसद रही जो दिसंबर में 60.5 फीसद थी। जनवरी में अनाज और उत्पादों की महंगाई दर 5.25 फीसद रही, जो दिसंबर में 4.36 फीसद थी। दलहन और उससे जुड़े उत्पादों की जनवरी में महंगाई दर 16.71 फीसद दर्ज की गई जो दिसंबर में 15.44 फीसद थी। मांस और मछली की महंगाई दर जनवरी में 10.5 फीसद रही, यह दिसंबर में 9.5 रही। वहीं, अंडे का महंगाई दर दिसंबर के 8.7 फीसद की तुलना में जनवरी में 10.4 फीसद रही। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस