नई दिल्ली। रुपये की कीमत में हुई गिरावट का असर विदेशी यात्राओं पर भी पड़ने लगा है। बड़ी टूर कंपनियों का कहना है कि रुपये की कीमत गिरने के कारण लैंड कंपोनेंट पर भी पड़ रहा है, जिसके लिए विदेशी मुद्रा खर्च करनी पड़ती है। ऐसे में टूर पैकेज महंगे हो गए हैं।

कंपनियां विदेश घूमने वाले भारतीयों को घर के पास की जगहों पर घूमने की सलाह दे रही हैं, ताकि लागत के असर को कम किया जा सके। ट्रैवल पोर्टल यात्रा के अध्यक्ष शरत ढल ने बताया कि अलग-अलग स्थानों के लिए लैंड कंपोनेंट (होटल, स्थानीय ट्रांसपोर्टेशन) अलग है।

यह भी पढ़ें : यूएई में शेफ संजीव कपूर ने मोदी के लिए बनाया डिनर

उदाहरण के लिए थाईलैंड के लिए, यह कुल लागत का 30 फीसद है, उत्तरी अमेरिका और यूरोप के लिए, यह लगभग आधा है। रुपये में 5 फीसद की गिरावट का अर्थ है कि टूर पैकेज की लागत में करीब 2.5 से तीन फीसद की वृद्धि होना।

नतीजतन, ढल बताते हैं कि थाईलैंड में तीन रात-चार दिन के पैकेज की कीमत 30 हजार रुपये है, जो कि पहले से 600 रुपये अधिक है। वहीं, पिछले सप्ताह रुपये की गिरावट के बाद यूरोप के लिए सप्ताह भर पैकेज की कीमत 80,000 रुपये हो गई है, जो पहले से 2,500 रुपये अधिक महंगी है।

यह भी पढ़ें : दुबई में दाऊद की संपत्ति जब्त करने को कहेगा भारत

रुपये के अवमूल्यन के कारण विदेशों में अन्य खर्चे जैसे खरीदारी में भी इजाफा हुआ है। इन सभी कारणों से यात्रा में होने वाला खर्च बढ़ गया है। ट्रैवल कंपनियों का कहना है कि यदि एयरलाइन्स ने किराया बढ़ाया, तो यात्रा के खर्च में और इजाफा हो सकता है।

बिजनेस सेक्शन की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Shashi Bhushan Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप