जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। आगामी बजट में सरकार इंश्योरेंस सेक्टर के दायरे को बढ़ाने के लिए कदम उठाने के साथ बाजार में निवेश को आकर्षित बनाने के लिए कैपिटल गेन टैक्स की दरों में बदलाव कर सकती है। बाजार विशेषज्ञों के मुताबिक अभी शेयर बाजार में साल भर के अंदर शेयर की बिक्री से मुनाफा कमाने पर 30 फीसद तक टैक्स देना पड़ता है। इस टैक्स को निवेशक काफी अधिक मान रहे हैं और छोटे-छोटे निवेशक इस ऊंची दर की वजह से भी निवेश से पीछे हट जाते हैं।

सूत्रों के मुताबिक बाजार में छोटे-छोटे निवेशकों को लाने के लिए सरकार इस दर को कम कर सकती है। विशेषज्ञों का कहना है कि निवेशक अमूमन मुनाफे पर कम टैक्स वाले निवेश की ओर अधिक आकर्षित होते हैं। जानकारों के मुताबिक बाजार में छोटे निवेशकों की संख्या लगातार बढ़ रही है और उनकी वजह से ही आठ करोड़ से अधिक डी-मैट खाते खोले जा चुके हैं। टैक्स अधिक रहने पर ये निवेशक दूसरी तरफ शिफ्ट हो सकते हैं।

सूत्रों के मुताबिक, सरकार इंश्योरेंस सेक्टर के दायरे को बढ़ाने के लिए कई बदलाव कर सकती है। इंश्योरेंस नियामक की तरफ से सरकार को इस संबंध में प्रस्ताव दिए गए हैं। इनमें इंश्योरेंस कंपनी खोलने के लिए निवेश की सीमा को कम करना सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। निवेश की सीमा हटा देने पर इस सेक्टर में छोटी-छोटी कंपनियां आ सकती है।

यह भी पढ़ें: Budget 2023-24: सस्ता बीमा और आयुष्मान भारत की कवरेज बढ़ाने से सबको मिलेगी स्वास्थ्य सुरक्षा

यह भी पढ़ें: Fact Check : सलमान और सोनाक्षी सिन्हा की शादी का दावा फेक, अलग-अलग तस्वीरों को जोड़कर बनाई गई है वायरल तस्वीर

 

Edited By: Devshanker Chovdhary

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट