कुआलालंपुर, एएफपी। मलेशिया में भ्रष्टाचार से जुड़े मामले में बड़ी कार्रवाई हुई है। मलेशियाई एजेंसियों ने यह कार्रवाई 1 एमडीबी भ्रष्टाचार मामले से जुड़े लोगों पर की है। एजेंसियों ने मामले से जुड़ी 80 इकाइयों पर करीब 10 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया है। मामले से जुड़े लोगों में मलेशिया के पूर्व पीएम का भाई भी शामिल है। आज सोमवार को मलेशिया के एंटी करप्शन आयोग के चीफ ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री के भाई नजीर रजाक को भी जांच के दायरे में रखा गया है।

एजेंसियों द्वारा जो 10 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया गया है, वह सरकारी निवेश कोष 1 mdb से साल 2009 से 2014 के बीच लूटे गए अरबों डॉलर की जांच से जुड़ा है। गौरतलब है कि इन पैसों को महंगी कलात्मक वस्तुएं खरीदने के लिए खर्च किया गया है। आरोप है कि इसी घोटाले में मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक भी शामिल हैं।

मलेशिया के एंटी करप्शन आयोग की चीफ लतीफा कोया ने बताया है कि एजेंसियों को कंपनियों, राजनीतिक दलों और 80 लोगों से करीब 10 करोड़ डॉलर की वसूली की उम्मीद है। कोया ने बताया कि इसमें देश के पूर्व प्रधानमंत्री का छोटा भाई नजीर रजाक भी शामिल है। मीडिया से बातचीत में मलेशिया एंटी करप्शन आयोग की चीफ ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री का छोटा भाई देश के दूसरे सबसे बड़े बैंक CIMB ग्रुप होल्डिंग्स के अध्यक्ष थे। कोया ने बताया कि नजीर ने पिछले साल दिसंबर में बैंक छोड़ दिया था।

आरोप है कि जांच के दायरे आए लोगों और इकाइयों द्वारा मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री के बेटे से जुड़े खाते के माध्यम से 1 एमडीबी से पैसे निकाले गए हैं। गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक को पिछले साल गिरफ्तार कर लिया गया था। यह गिरफ्तारी सत्ता जाने के बाद हुई थी। साथ ही उन पर घोटाले से जुड़े कई आरोप भी लगाए गए थे।

Posted By: Pawan Jayaswal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप