नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। भारतीय दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल लिमिटेड ने अपना दूसरी तिमाही का परिणाम जारी कर दिया है। भारती एयरटेल (Bharti Airtel) के राजस्व में दूसरी तिमाही में अच्छा-खासा इजाफा हुआ है। कंपनी ने मौजूदा वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में अपने राजस्व में 22 फीसद का उछाल दर्ज किया है। कंपनी के राजस्व में यह वृद्धि उच्च टैरिफ और कोरोना वायरस महामारी के कारण वर्क फ्रॉम होम के कल्चर में विस्तार से डाटा की खपत बढ़ने के चलते हुई है।

कंपनी का 30 सितंबर को समाप्त हुई तिमाही में समेकित घाटा 7.63 अरब रुपये रहा है। वहीं, एक साल पहले की समान अवधि में कंपनी को 230.45 अरब रुपये का घाटा हुआ था।

भारत में दूसरे नंबर की दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल का समीक्षाधीन अवधि में राजस्व बढ़कर 257.85 अरब रुपये रहा है। एक साल पहले की समान अवधि में यह 211.31 अरब रुपये रहा था।

इस तरह भारती एयरटेल लिमिटेड ने दूसरी तिमाही में अपना अब तक का सबसे अधिक समेकित राजस्व दर्ज किया है। मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो के टेलीकॉम मार्केट में आने के बाद प्राइस वॉर के कारण भारतीय टेलीकॉम ऑपरेटर्स लो टैरिफ से जूझ रहे हैं। सरकार को 92,000 करोड़ रुपये का बकाया चुकाने के आदेश के बाद पिछले साल उन्होंने कीमतों में वृद्धि की थी।

भारती एयरटेल लिमिटेड के प्रति यूजर औसत राजस्व (ARPU) में भी दूसरी तिमाही में बढ़ोत्तरी हुई है। एयरटेल का एआरपीयू जुलाई से सितंबर तिमाही में बढ़कर 162 रुपये हो गया, जो एक साल पहले की समान अवधि में 128 रुपये था। कंपनी के 4G डेटा ग्राहकों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी हुई है। तीस सितंबर को समाप्त हुई तिमाही में कंपनी के 4जी डेटा ग्राहक 1.44 करोड़ बढ़कर 15.27 करोड़ हो गए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस