नोएडा, एएनआइ। बेहिसाब आय के बावजूद Income Tax का भुगतान नहीं करने वालों को जल्द ही आयकर के एक्शन का सामना करना पड़ा सकता है। ऐसा इसलिए कि आयकर विभाग ने सभी नागरिकों का एक बड़ा डेटाबेस तैयार किया है और वह आयकर विभाग नहीं करने वालों को तलब करने की तैयारी में है। आयकर विभाग के उत्तर प्रदेश (पश्चिम) और उत्तराखंड क्षेत्र के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर पीके गुप्ता ने कहा कि देर-सबेर आपको अपने निवेश के बारे में जानकारी देने के लिए विभाग की तरफ से तलब किया जा सकता है। 

उन्होंने आयकर अधिनियम, 1961 के अंतर्गत टीडीएस एवं टीसीएस से जुड़े प्रावधानों के बारे में आयोजित जागरूकता कार्यक्रम के दौरान यह बात कही। गुप्ता ने कहा, ''टैक्स प्रोफेशनल्स एवं असेसी को यह समझना चाहिए कि मित्रता एवं प्रोफेशनल एथिक्स के बीच एक महीन रेखा होती है। किसी भी भ्रष्ट गतिविधि में शामिल मत होइए। हम आपसे अपील करते हैं कि अगर आप हमसे संवाद करेंगे तो हम प्रोफेशनल एथिक्स और कमिटमेंट के साथ मामले को डील करेंगे।'' 

हालांकि, कर अधिकारी इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि कोई भी निर्दोष व्यक्ति दंडित ना हो। उन्होंने कहा, '''लेकिन लोगों को तथ्यों से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए और ना ही झूठे एविडेंस गढ़ने चाहिए।'' 

चालू वित्त वर्ष में उत्तर प्रदेश (पश्चिम) और उत्तराखंड में 35,979 करोड़ रुपये के टैक्स कलेक्शन का लक्ष्य है। गुप्ता ने बताया कि पिछले साल 28,855 करोड़ रुपये के कर संग्रह का लक्ष्य था लेकिन अधिकारियों ने 29,099 करोड़ रुपये कलेक्ट किए। यह पिछले साल की तुलना में 22.68 फीसद की वृद्धि को दिखाता है। 

गुप्ता ने कहा कि पिछले साल क्षेत्र में 39 लाख करदाता थे लेकिन इस वर्ष 6.6 लाख और टैक्सपेयर्स को जोड़ने की योजना है।

 

Posted By: Ankit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप