नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। अगर आपको बैंकिंग से जुड़ा कोई भी काम है तो आप उसे सोमवार को ही निपटा लें। ऐसा करना आपके लिए फायदेमंद रहेगा, क्योंकि इस सप्ताह दो दिन बैंकिंग सेवा पर बुरा असर पड़ने की आशंका है। इसकी वजह यह है कि सरकारी बैंक कर्मचारी संगठनों के एक धड़े ने अगले सप्ताह मंगलवार और बुधवार को हड़ताल का आह्वान किया है। सरकार की कथित श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ 10 केंद्रीय कर्मचारी संगठनों ने दो दिनों का देशव्यापी हड़ताल बुलाया है, जिसे बैंक कर्मचारी संगठनों का एक धड़ा समर्थन दे रहा है।

आइडीबीआइ बैंक ने बीएसई को बताया कि ऑल इंडिया बैंक इंप्लॉईज एसोसिएशन (एआइबीईए) तथा बैंक इंप्लॉईज फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीईएफआइ) ने इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (आइबीए) को इस हड़ताल में उनके शामिल होने की सूचना दी है। इलाहाबाद बैंक ने भी बीएसई को बताया कि मुद्दे और मांगें उद्योग जगत के स्तर की हैं और हडताल का आह्वान भी उद्योग के स्तर पर ही किया गया है। इसलिए अगर हड़ताल की जाती है, तो बैंक की गतिविधियां प्रभावित हो सकती हैं।

हालांकि बैंक दो दिनों की संभावित परिस्थितियों में सेवा सुचारू रूप से चलाते रहने की हर संभव तैयारियों में जुटा है। वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) ने भी दो दिनों की आगामी हड़ताल की अवधि में उसकी कुछ शाखाओं में कामकाज पर असर पड़ने की आशंका जताई है।

हड़ताल की वजह: वाम समर्थित श्रमिक संगठनों की ओर से न्यूनतम मजदूरी 18 हजार रुपये व बेरोजगारों को रोजगार मुहैया कराए जाने की मांग को लेकर हड़ताल का आह्वान किया गया है। कांग्रेस ने इस हड़ताल को नैतिक समर्थन दिया है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस