नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा लागू किेए गए बैंकिंग सुधारों को खराब बताते हुए 29 जुलाई को देश के करीब 10 लाख बैंक कर्मचारी राष्ट्रव्यापी हड़ताल करने जा रहे हैं। ये हड़ताल यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने बुलाई है। सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने 12 और 13 जुलाई को हड़ताल करने की इजाजत नहीं दी थी जिसके बाद नाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने हड़ताल के लिए 29 जुलाई का दिन चुना है।

नाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के अंतर्गत बैंक अधिकारियों और कर्माचरियों की नौ यूनियन आती है। ऑल इंडिया बैंक इम्पलाइज एसोसिएशन के राष्ट्रीय महासचिव सीएच वेंकटचलम्मा ने अपने बयान में कहा कि केंद्र सरकार की बैंकिंग सुधार नीतियां जनविरोधी हैं जिसके विरोध में 29 जुलाई को निजी क्षेत्रों के बैंक कर्मचारियों के अलावा, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, विदेशी बैंक और कॉपरेटिव बैंक के कर्मचारी एक दिन का राष्ट्रीय हड़ताल करेंगे।

इससे पहले बैंक यूनियनों ने पांच स्टेट बैंकों को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में मर्ज करने के फैसले के विरोध में 20 मई को प्रदर्शन किया था।

पढ़ें- हर परिवार का बैंक में हो खाता

Posted By: Atul Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस