नई दिल्ली, पीटीआइ। 10 सितंबर को समाप्त पखवाड़े में बैंक लोन 6.7 फीसद बढ़कर 109.12 लाख करोड़ रुपये और जमा 9.32 फीसद बढ़कर 155.75 लाख करोड़ रुपये हो गया। RBI के आंकड़ों से ये जानकारी सामने आई है। एक साल पहले 11 सितंबर, 2020 को समाप्त पखवाड़े में बैंक अग्रिम 102.27 लाख करोड़ रुपये और जमा राशि 142.47 लाख करोड़ रुपये थी।

27 अगस्त, 2021 को समाप्त पखवाड़े में बैंक कर्ज में 6.67 फीसद और जमा में 9.45 फीसद की वृद्धि हुई थी।FY2020-21 में बैंक कर्ज में 5.56 फीसद और जमा में 11.4 फीसद की वृद्धि हुई थी।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhaar का कहां-कहां हुआ है इस्तेमाल, घर बैठे ऐसे लगाएं पता

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के शेड्यूल्ड कमर्शियल बैंकों के साथ जमा मार्च 2021 के गुरुवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2021 में चालू खाते और बचत खाते (CASA) जमाओं की हिस्सेदारी एक साल पहले के 41.7 फीसद की तुलना में बढ़कर 43.7 फीसद हो गई। घरेलू क्षेत्र की कुल जमाराशियों में 64.1 फीसद की हिस्सेदारी थी।

यह भी पढ़ें: इन बैंकों के ग्राहक बिना कार्ड के भी ATM से निकाल सकते हैं पैसा, जानिए कैसे

आंकड़ों के मुताबिक, हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) सहित व्यक्ति, घरेलू क्षेत्र के मेजर कंस्टीटूएंट थे और कुल जमा में 55.8 फीसद का योगदान था।

गैर-वित्तीय निगमों की बैंक जमा में 2020-21 के दौरान 18.8 फीसद की वृद्धि हुई और मार्च 2021 में कुल जमा में उनकी हिस्सेदारी बढ़कर 16.2 फीसद हो गई। बैंकों की मेट्रोपॉलिटन ब्रांच, जो कुल जमा का आधे से अधिक हिस्सा हैं, 2020-21 के दौरान वृद्धिशील जमा का 59.6 फीसद है, जबकि पिछले वर्ष में यह 43.2 फीसद था।

आंकड़ो के मुताबिक, तीन प्रमुख राज्यों महाराष्ट्र, यूपी और कर्नाटक के पास कुल घरेलू क्षेत्र की बकाया जमा राशि का एक तिहाई और 2020-21 के दौरान इसकी वृद्धिशील जमा राशि का 40 फीसद से अधिक है।

 

Edited By: Nitesh