नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। Amazon Prime Video, Disney+ Hotstar, Netflix और ZEE5 सहित करीब 15 वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स ने एक सेल्फ रेगुलेशन कोड पर हस्ताक्षर किए हैं। इन ओटीटी प्लेटफॉर्म्स ने इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI)के तत्वावधान में 'यूनिवर्सल सेल्फ-रेगुलेशन कोड फॉर ओसीसीपीज' पर दस्तखत किए। सेल्फ रेगुलेशन के सरकार के आह्वान का समर्थन करते हुए ओटीटी प्लेटफॉर्म्स ने आयु वर्ग को क्लासिफाई किए जाने, कंटेंट के उचित विवरण और अन्य जरूरी चीजों को लेकर स्व-नियमन के लिए यह फ्रेमवर्क तैयार किया है।  

IAMAI की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि इस कोड का लक्ष्य उपभोक्ताओं को अपने पसंद की सामग्री को लेकर अधिक विकल्प और कंट्रोल उपलब्ध कराना है। इस कोड में शिकायतों के निपटारे से जुड़े तंत्र को भी शामिल किया गया है।  

इस रिलीज में कहा गया है कि वर्तमान में इस कोड पर नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम वीडियो, Disney+ Hotstar, अल्टबालाजी, जी5, Arre, Discovery+, Eros Now, Flickstree, Hoichoi, हंगामा, MX Player, शेमारू, VOOT और जियो सिनेमा जैसे प्लेटफॉर्म्स ने हस्ताक्षर किए हैं।  

(यह भी पढ़ेंः Home Loan लेकर घर खरीदते समय न भूलें कानूनी सलाह लेना, जानें क्‍यों जरूरी है ऐसा करना)   

IAMAI ने उम्मीद जाहिर की है कि भारत में परिचालन कर रहे 30 से अधिक स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म जल्द ही इस कोड से जुड़ सकते हैं। कोड 15 अगस्त, 2020 से प्रभावी है और OCCPs (ऑनलाइन क्यूरेटेड कंटेंट प्रोवाइडर्स) को सभी दिशा-निर्देशों का पालन एक निश्चित समयसीमा के भीतर करने की इजाजत देता है।  

IAMAI भारत में डिजिटल बिजनेस से जुड़ी कंपनियों का संगठन है। इसकी स्थापना 2004 में की गई थी। 

IAMAI के डिजिटल एंटरटेनमेंट कमेटी के चेयर तरुण कतियाल ने कहा, ''यह सभी प्लेटफॉर्म को सार्थक रूप से जोड़ने की दिशा में उठाया गया बड़ा कदम है। इसके पीछे का विचार शानदार कहानियों को पेश करने के साथ यूजर्स के मुद्दों को लेकर संवेदनशीलता बरतने एवं सांस्कृतिक सीमाओं का ध्यान रखने से जुड़ा है।''

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप