नई दिल्ली, पीटीआइ। केंद्रीय ट्रेड यूनियन ऑल इंडिया ट्रेडर्स यूनियन कांग्रेस ने बैंकों के विलय के खिलाफ बैंक ऑफिसर्स यूनियन्स की दो दिन की प्रस्तावित हड़ताल के समर्थन का शुक्रवार को ऐलान किया। बैंक ऑफिसर्स यूनियन्स ने 26-27 सितंबर को हड़ताल का आह्वान किया है। एआटीयूसी ने बयान जारी कर कहा है कि बैंकों के मर्जर के जरिए सरकार का लक्ष्य निजी क्षेत्र के बैंकों के लिए अवसर पैदा करना है और संगठन इसके खिलाफ है। 

ऐसे में अगर बैंक अधिकारी अगर ये प्रस्तावित हड़ताल वापस नहीं लेते हैं तो शनिवार और रविवार मिलाकर बैंक लगातार चार दिन तक बंद रहेंगे। 

एआईटीयूसी ने बयान जारी कर कहा है, ''(बैंकों के मर्जर के) सरकार के फैसला के आशय वास्तव में प्राइवेट बैंकिंग के लिए अवसर पैदा करना है। एआईटीयूसी इसके खिलाफ है। इसलिए एआईटीयूसी हड़ताल के आह्वान का स्वागत करता है और इस तरह के सभी जनविरोधी और कॉरपोरेट को समर्थन देने वाली नीतियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए नेशनल कन्वेंशन की तैयारी कर रहा है।''

 श्रमिक संगठन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि दस बैंकों का विलय कर चार बैंक बनाने की सरकारी की घोषणा के बाद से आम लोग एवं बैंक अधिकारी और कमर्चारी इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। 

 बैंक अधिकारियों ने अपने प्रदर्शन को आगे बढ़ाने के लिए 26 और 27 सितंबर को दो दिन की हड़ताल बुलाई है। उन्होंने कहा है कि सरकार अगर अपनी इस योजना को आगे बढ़ाती है तो वे नवंबर के मध्य से अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे। 

एआईटीयूसी ने इस बात की ओर इशारा किया है कि अब तक के दो मर्जर से किसी तरह का ठोस फायदा नहीं हुआ है क्योंकि फंसे हुए कर्ज में कोई कमी नहीं आई है। .

Posted By: Ankit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप