नई दिल्ली, पीटीआइ। अगले वित्त वर्ष की पहली छमाही में विमानन कंपनी एयर इंडिया की बिक्री पूरा हो सकती है. सरकार ने ऐसा अनुमान जताया है। निवेश एवं लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। पांडेय ने आम बजट के बारे में वित्तीय मामलों के विशेषज्ञों से चर्चा करते हुए कहा कि सरकार ने विनिवेश की रणनीति में बदलाव किया है और अब सरकारी कंपनियों की छोटी हिस्सेदारियों के बजाय रणनीतिक हिस्सेदारी की बिक्री की जाएगी।

उन्होंने कहा कि अगले वित्त वर्ष में बड़े पैमाने पर निजीकरण होगा। पांडेय ने बीपीसीएल, कॉनकॉर और शिपिंग कॉरपोरेशन के संदर्भ में नवंबर में कहा था कि सरकार ने बड़े विनिवेश का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि हम तेजी से आगे बढ़े हैं। एयर इंडिया के लिये रुचिपत्र सार्वजनिक किए जा चुके हैं। हम 2020-21 की पहली छमाही में इन सौदों को पूरा कर लेना चाहते हैं।'

सरकार ने पिछले सप्ताह एयर इंडिया की 100 फीसद हिस्सेदारी बेचने के लिए प्रारंभिक सूचना ज्ञापन जारी किया था। इसके साथ ही एयर इंडिया एक्सप्रेस की 100 फीसद हिस्सेदारी तथा एयर इंडिया एसएटीएस एयरपोर्ट सर्विसेज की 50 फीसद हिस्सेदारी की भी बिक्री की जाएगी। रूचिपत्र जमा करने की समयसीमा 17 मार्च तक है। विशेषज्ञों से बजट पर यह चर्चा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अगुवाई में हुई। 

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस