नई दिल्ली, पीटीआइ। भारत की करीब 37 फीसद महिलाओं ने कभी भी सोने के आभूषण नहीं खरीदे, लेकिन वे चाहती हैं कि भविष्य में सोना अथवा सोने के आभूषण खरीदेंगी। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC) ने एक रिपोर्ट में यह बात कही है। रिपोर्ट कहा गया है कि इनमें से ज्यादातर संभावित खरीदार देश के ग्रामीण इलाकों से हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, 'करीब 37 फीसद भारतीय महिलाएं सोने की संभावित खरीदार हैं और गोल्ड इंडस्ट्री के लिए यह एक बड़ा लक्ष्य बन सकता है। इनमें 44 फीसद ग्रामीण महिलाएं हैं जबकि 30 फीसद महिलाएं शहरी क्षेत्रों से हैं। खुदरा आभूषण कारोबार करने वालों दुकानदारों के लिए यह महिलाएं ज्यादा संभावनाएं पैदा करती है।' WGC की 'रिटेल गोल्ड इनसाइट: इंडिया ज्वैलरी' रिपोर्ट में यह परिणाम सामने आया है। 

यह भी पढ़ें:  क्या है No Cost EMI, कहीं मार्केटिंग टैक्टिक्स में तो नहीं फंस रहे आप, पहले जानिए फिर करिए शॉपिंग

यह सर्वे वैश्विक शोध एजेंसी हॉल एण्ड पार्टनर्स के साथ मिलकर किया गया है। इसमें 6,000 से अधिक 18 से 65 आयु वर्ग के लोगों के साथ बातचीत की गई। न केवल भारत में बल्कि चीन और अमेरिका में भी ग्राहकों के साथ बातचीत की गई। भारतीय महिलाएं सामान्य तौर पर सोना खरीदती हैं। यह उनकी पसंद है, यह टिकाऊ है और एक बेहतर वित्तीय निवेश के साथ ही पारिवारिक विरासत और सामाजिक रूप से स्वीकार्य उत्पाद है। इसमें खरीद- बिक्री का अनुभव भी बेहतर रहता है। 

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन की वजह से चली गई है नौकरी या आय हो गई है कम, तो ये 4 टिप्स आपके काम आएंगे

हालांकि, सर्व में यह बात भी सामने आई है कि गोल्ड मौजूदा समय में युवतियों की मान- सम्मान और फैशन जरूरतों पर खरी नहीं उतरतीं हैं। सर्वे में यह बात भी सामने आई है कि 18 से 24 साल की 33 फीसद युवा महिलाएं समय सम पर सोने के आभूषण खरीदती रहती हैं। भविष्य में उनकी इस खरीदारी की इच्छा भी कमजोर है, खासतौर से शहरी क्षेत्र की महिलाएं ज्यादा नहीं सोचतीं हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि युवा महिलाएं सोने के आभूषणों को लेकर ज्यादा संवेदनशील नहीं हैं और यह स्वर्ण उद्योग के लिये भविष्य में संभावित खतरा बन सकता है।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस