नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। जब आप कोई लोन लेते हैं, तो आपको उसे चुकाने के लिए ईएमआई (EMI) भरनी पड़ती है। वास्तव में आपकी कुल ईएमआई लोन की मूल राशि और ब्याज राशि के योग के बराबर होती है। बाजार में इस समय ग्राहकों से एक नए प्रकार के लोन की पेशकश की जा रही है। इसे ईएमआई फ्री लोन के नाम से जाना जाता है। इसमें ग्राहक लोन की मूल राशि को त्रैमासिक, छमाही या अपने कैश फ्लो के हिसाब से टुकड़ों में जमा करा सकते हैं। यहां आपको बता दें कि इस तरह का लोन उन्हीं ग्राहकों के लिए है, जिनकी न्यूनतम सैलरी 30,000 रुपये महीने हो और वे किसी लिमिटेड या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या सरकारी विभाग में काम कर रहे हों। 

आइए जानते हैं कि इस तरह के लोन के क्या-क्या फायदे हैं।

1. इस तरह के लोन में हर महीने ग्राहक को सिर्फ ब्याज राशि ही जमा करानी होती है और प्रत्येक छ महीने में मूल राशि जमा करानी होती है। इससे ग्राहक की जेब पर हर महीने कम भार पड़ता है, क्योंकि उसे सिर्फ ब्याज का ही भुगतान करना होता है।

2. इस तरह के लोन में छह महीने तक लोन डिस्बर्समेंट के बाद ग्राहक के पास लोन के पूर्व भुगतान का विकल्प होता है। इसमें लोन की समयावधि पूरी होने से पहले ही इसे बंद करने पर कोई चार्ज भी नहीं देना पड़ता है। 

3. इस तरह का लोन सिर्फ 24 घंटों के अंदर ही डिस्बर्स्ड हो जाता है। एक बार जब अर्जी जमा हो जाती है और आवश्यक वेरिफिकेशन हो जाता है, तो लोन डिस्बर्स्ड हो जाता है। इसकी प्रोसेस पेपरलेस और ऑटोमेटेड है, जिसमें कोई भी प्री पेमेंट चार्ज नहीं लिया जाता है।

4. इस तरह के लोन की पेशकश कुछ टेकी लेंडिंग प्लेटफॉर्म्स अर्थात निजी कंपनियों द्वारा की जाती है। यहां ग्राहक को मूल राशि को बढ़ाने या घटाने का भी विकल्प मिलता है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस