मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। सार्वजनिक क्षेत्र का सबसे बड़ा बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) अपने पर्सनल फाइनेंस पोर्टफोलियो के अंतर्गत तमाम तरह के होम लोन की सुविधा देता है। होम लोन एक ऐसा खास प्रोडक्ट होता है, जहां ग्राहक अपने नए घर को खरीदने या फिर पुराने घर के निर्माण के लिए लोन ले सकते हैं। बैंक अपने ग्राहकों को 30 लाख रुपये तक का लोन 8.75 फीसद की ब्याज दर से उपलब्ध करवाता है। यह जानकारी एसबीआई की आधिकारिक वेबसाइट homeloans.sbi पर उपलब्ध है। वहीं एसबीआई के रेगुलर होम लोन पर लगने वाली ब्याज दर महिलाओं के लिए अन्य के मुकाबले कम होती है।

एसबीआई कई तरह होम लोन की पेशकश करता है, जानिए इनके बारे में:-

  • एसबीआई फ्लैक्सीपे होमलोन: एसबीआई की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक एसबीआई का फ्लैक्सीपे होम लोन नौकरीपेशा ग्राहकों को बड़ा लोन लेने की सुविधा प्रदान करता है। यह ग्राहकों को विकल्प प्रदान करता है कि वो मोरेटोरियम पीरियड (प्री-ईएमआई) अवधि के दौरान सिर्फ लोन के ब्याज का भुगतान करें और उसके बाद मॉडेरेटे ईएमआई का भुगतान करें। ईएमआई को आगे के वर्षों के लिए बढ़ाया जाता है।
  • एसबीआई प्रिविलेज होम लोन: एसबीआई प्रिविलेज होम लोन की सुविधा विशेषकर सरकारी कर्मचारियों के लिए उपलब्ध होती है। वो लोग जो केंद्र एवं राज्य सरकार के अंतर्गत काम करते हैं जिसमें पब्लिक सेक्टर के बैंक, केंद्र सरकार की पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग और अन्य लोग जिनको पेंशन मिल रही है वो इस तरह के होम लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। लोन की राशि तमाम कारकों पर निर्भर करती है जैसे कि आवेदक की आय, उसके भुगतान करने की क्षमता, उसकी उम्र, एसेट्स एवं लायबिलिटी और घर एवं फ्लैट की कीमत।
  • एसबीआई शौर्य होम लोन: एसबीआई की शौर्य होम लोन स्कीम देश की सेना और रक्षा क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए है। यह स्कीम कम ब्याज दर, भुगतान के आसान विकल्प और भुगतान की लंबी अवधि के साथ लोन मुहैया करवाती है।
  • एसबीआई प्री अप्रूव्ड होम लोन: एसबीआई का प्री-अप्रूव्ड लोन (पीएएल) प्रॉपर्टी को अंतिम रूप देने से पहले ग्राहकों को होम लोन सीमा की मंजूरी प्रदान करता है, जो कि उन्हें उन्हें बिल्डर/विक्रेता के साथ मोलभाव करने में सक्षम बनाता है। इसमें मिलने वाली लोन की राशि कितनी होगी यह आवेदक की आय पर निर्भर करता है। एसबीआई की वेबसाइट के मुताबिक मंजूरी के समय ली जाने वाली प्रोसेसिंग फीस नॉन रिफंडेबल होती है।
  • एसबीआई रिललिटी होम लोन: एसबीआई रिललिटी होम लोन ग्राहकों को प्लॉट खरीदने के लिए एक आवासीय इकाई के निर्माण के लिए पैसे उपलब्ध करवाता है। इसके अंतर्गत घर का निर्माण लोन मंजूर होने के पांच वर्षों के भीतर हो जाना चाहिए। यह जानकारी भी एसबीआई की आधिकारिक वेबसाइट पर दर्ज है। ग्राहक एसबीआई रियल्टी के अंतर्गत प्लॉट पर घर के निर्माण के लिए एक और होम लोन का लाभ उठा सकते हैं। इसमें लोन की अधिकतम राशि 15 करोड़ रुपये हो सकती है जिसकी अदायगी अगले 10 वर्षों में करनी होती है।
  • एसबीआई ब्रिज होम लोन: एसबीआई ऐसे घर मालिकों को ब्रिज होम लोन की सुविधा देता है जो अपने मौजूदा घरों को बेचकर उसको बड़ा करने या फिर उसकी लोकेशन बदलने की ख्वाहिश रखते हैं।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप