नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। एसेट्स के मामले में निजी क्षेत्र का सबसे बड़ा बैंक एचडीएफसी टैक्स सेवर फिक्स्ड डिपॉजिट की सुविधा देता है। इसमें निवेशक आयकर की धारा 80C के अंतर्गत फिक्स्ड डिपॉजिट में किए गए निवेश पर टैक्स की बचत कर सकते हैं।

फिक्स्ड डिपॉजिट आमतौर पर एक ऐसे बेहतर निवेश विकल्प के रूप में जाना जाता है जिसका चुनाव टैक्स बचाने के उद्देश्य के लिए किया जाता है। टैक्स बचाने के अन्य निवेश विकल्पों में पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ), नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी), इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस), अटल पेंशन योजना, सुकन्या समृद्धि अकाउंट और नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस)।

एचडीएफसी बैंक टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट 2019: जानिए योग्यता, ब्याज दर, टैक्स बचत फायदा, टीडीएस, निवेश सीमा और टैन्योर के बारे में

इनकम टैक्स बेनिफिट्स: एचडीएफसी बैंक के मुताबिक निवेशक एक फाइनेंशियल प्रोडक्ट में 1.5 लाख रुपये तक के सालान निवेश पर टैक्स बचत क्लेम कर सकता है। यह बचत आयकर की धारा 80C के अंतर्गत की जाती है।

कौन ले सकता है फायदा: एचडीएफसी बैंक की टैक्स सेविंग एफडी का फायदा भारत का हर सदस्य और हिंदु अनडिवाइडेड फैमिली का सदस्य उठा सकते है। ये दोनों ही एचडीएफसी बैंक के साथ टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट खुलवाने की पात्रता रखते हैं।

एचडीएफसी बैंक टैक्स सेविंग एफडी रेट 2019: एचडीएफसी बैंक की टैक्स सेविंग एफडी में मिलने वाला ब्याज वही होता है जो कि बैंक की पांच वर्षीय फिक्स्ड डिपॉजिट पर दिया जाता है। एचडीएफसी बैंक 1 करोड़ रुपये से कम जमा वाली 5 वर्षीय फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.25 फीसद की दर से ब्याज देता है, वहीं एक करोड़ रुपये से 5 करोड़ रुपये तक की जमा पर ब्याज दर 7.35 फीसद है। वहीं सीनियर सिटिजन को थोड़ा ज्यादा ब्याज (50 बेसिस प्वाइंट) दिया जाता है।

एचडीएफसी बैंक टैक्स सेवर फिक्स्ड डिपॉजिट लिमिट: एचडीएफसी बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट खुलवाने के लिए आपको न्यूनतम 100 रुपये या फिर इसके गुणकों में जमा से साथ शुरुआत करनी होगी। वहीं आप इसमें एक वित्त वर्ष के दौरान 1.5 लाख रुपये तक ही जमा करा सकते हैं।

एचडीएफसी बैंक टैक्स सेवर एफडी टेन्योर: एचडीएफसी बैंक की टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) में पांच वर्षों का लॉक इन पीरियड होता है।

एचडीएफसी बैंक की टैक्स सेविंग एफडी पर टैक्स: आयकर स्लैब के हिसाब से ब्याज पर कर देना होता है। इसके अलावा अगर एक वित्त वर्ष के दौरान जमा पर मिलने वाला ब्याज 10,000 रुपये से ज्यादा हो जाता है तो उस पर 10 फीसद की टीडीएस कटौती होती है। यह सीमा सीनियर सिटिजन के लिए 50,000 रुपये की है।

यह भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस में खोलना चाहते हैं सेविंग अकाउंट, तो आपको ये बातें जाननी चाहिए

इन 5 सूरतों में रुक सकता है आपके पीपीएफ खाते में जमा पर मिलने वाला ब्याज, जानिए

Posted By: Praveen Dwivedi