नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। मौजूदा समय में बड़ी संख्या में लोग नकदी की कमी से जूझ रहे हैं। कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन ने लोगों की आय को काफी अधिक प्रभावित किया है। इसके चलते कई लोग इस विकट समय में पर्सनल लोन लेकर अपने नकदी संकट को दूर करने की योजना बना रहे हैं। पर्सनल लोन लेते समय ग्राहक को मार्केट में उपलब्ध विभिन्न ऑफर्स की जानकारी अवश्य ले लेनी चाहिए। पर्सनल लोन में हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए कि ब्याज दर कम से कम हो। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिनका ध्यान रखकर ग्राहक कम दर वाला पर्सनल लोन पा सकता है।

ऑफर्स का उठाएं फायदा

ग्राहक को लोन लेने से पहले अपनी योग्यताओं व जरूरतों के अनुसार, विभिन्न कर्जदाताओं द्वारा पर्सनल लोन पर ली जा रही ब्याज दरों की तुलना अवश्य कर लेनी चाहिए। बहुत से कर्जदाता समय-समय पर पर्सनल लोन पर अच्छे सीजनल ऑफर्स लेकर आते हैं। ग्राहक को पर्सनल लोन देने वाले विभिन्न कर्जदाताओं के ऐसे सीजनल ऑफर्स की तलाश अवश्य करनी चाहिए। इन ऑफर्स का फायदा उठाकर ग्राहक कम ब्याज दर वाला पर्सनल लोन प्राप्त कर सकते हैं।

क्रेडिट स्कोर

लोन लेते समय ग्राहक का क्रेडिट स्कोर बहुत मायने रखता है। कम ब्याज दर वाला पर्सनल लोन प्राप्त करने के लिए ग्राहक का क्रेडिट स्कोर अच्छा होना जरूरी है। 750 और इससे ज्यादा का क्रेडिट स्कोर होने पर कम दर वाले पर्सनल लोन की उम्मीद काफी ज्यादा बढ़ जाती है। अपने क्रेडिट युटिलाइजेशन रेशियो को 30 फीसद की सीमा में रखकर अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रखा जा सकता है। ग्राहक को नियमित रूप से अपनी क्रेडिट रिपोर्ट अवश्य देखनी चाहिए।

नियोक्ता की विश्वसनीयता

अगर आपके नियोक्ता की विश्वसनीयता अधिक है, तो आपको कम ब्याज दर वाला लोन पाने में सहूलियत हो सकती है। पर्सनल लोन में नियोक्ता की विश्वसनीयता भी काफी मायने रखती है। लोकप्रिय संस्थानों में या मल्टीनेशनल कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों को आसानी से उनकी पसंदीदा लोन डील मिल जाती है। इसका कारण है कि लोकप्रिय कंपनियों में कर्मचारियों की नौकरी का स्थायित्व अधिक होता है। कर्जदाता को लगता है कि ऐसे ग्राहक समय पर लोन चुकाने में अधिक सक्षम होते हैं।

भुगतान की अच्छी हिस्ट्री हो

अगर आप कम ब्याज दर वाला पर्सनल लोन चाहते हैं, तो आपकी भुगतान हिस्ट्री अच्छी होनी चाहिए। ग्राहक को अपने क्रेडिट कार्ड्स के बिल का पूरा भुगतान करने की कोशिश करनी चाहिए और हर महीने अपना कर्ज चुका देना चाहिए। अगर ग्राहक के पास पहले से कोई दूसरा कर्ज है, तो उसकी ईएमआई (EMI) नियमित रुप से समय पर जमा करानी चाहिए। ऐसा होने पर ग्राहक को कम ब्याज दर वाला पर्सनल लोन पाने में आसानी होगी।

Posted By: Pawan Jayaswal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस