नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अपना घर खरीदना जीवन का एक बड़ा वित्तीय खर्च होता है। अधिकांश लोगों को इसके लिए लोन लेने की आवश्यकता पड़ती है। Home Loan लेने से पहले ग्राहक को बाजार में उपलब्ध सभी होम लोन ऑफर्स के बारे में जान लेना चाहिए और तुलनात्मक रूप से जो सबसे कम महंगा हो, उसे लेना चाहिए। अक्सर होम लोन मिलना आसान नहीं होता। बहुत से ग्राहकों को होम लोन लेने में काफी परेशानी आती है। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताएंगे, जिन पर अमल कर आप आसानी से होम लोन पा सकते हैं।

लंबी अवधि का करें चुनाव

Home Loan चुकाने के लिए लंबी अवधि का चुनाव कर आप अपनी होम लोन पाने की योग्यता को बढ़ा सकते है। लंबी अवधि से ग्राहक को लोन चुकाने के लिए अतिरिक्त समय मिल जाता है। इससे किश्तें भी कम राशि की बनती है। ऐसे में कर्जदाता इस बात के लिए अधिक आश्वस्त हो जाता है कि ग्राहक समय पर लोन चुका सकता है। इससे कर्जदाता का जोखिम घट जाता है।

सिबिल स्कोर

ग्राहक का Cibil score अच्छा हो, तो वह आसानी से होम लोन प्राप्त कर सकता है। 750 से ऊपर का सिबिल स्कोर अच्छा माना जाता है। इससे ग्राहक को कर्जदाता के लिए विश्वासपात्र और जोखिम-मुक्त देनदार समझा जाता है। सिबिल स्कोर बेहतर होने पर ग्राहक के लिए होम लोन पर ब्याज दर भी कम हो सकती है।

सह-आवेदक

अगर आपके पति/पत्नी भी कामकाजी हैं और उनका सिबिल स्कोर अच्छा है, तो एक ज्वाइंट होम लोन के लिए आवेदन में सह-आवेदक के रूप में उनका नाम जोड़ा जा सकता है। इससे ग्राहक की लोन पाने की योग्यता बढ़ जाएगी। साथ ही बड़ा लोन अमाउंट भी मिल सकता है।

जोड़ें आय का अतिरिक्त स्रोत

आपके पास अगर पार्ट-टाइम बिजनेस या किराये से प्राप्त आय जैसे अतिरिक्त आय के स्रोत हैं, तो इससे आपकी वित्तीय स्थिति मजबूत हो सकती है। अगर आपके पास ऐसे स्रोत हैं, तो लोन आवेदन करते समय इनकी जानकारी जरूर दें। इससे ग्राहक की लोन पाने की योग्यता बढ़ जाएगी। इसके अलावा ग्राहक को बड़ा लोन अमाउंट भी मिल सकता है।

मौजूदा लोन का समय से पूर्व भुगतान

होम लोन के लिए आवेदन करने से पहले ग्राहक को अपने मौजूदा लोन का पूर्व भुगतान कर देना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होगा, तो कर्जदाता ऐसा सोच सकता है कि ग्राहक पर पहले से ही मौजूदा लोन की EMI का बोझ है। ऐसे में अगर होम लोन भी ले लिया जाए, तो ग्राहक पर ईएमआई का बोझ बढ़ जाएगा और वह किश्तों के भुगतान में देरी कर सकता है। इस तरह भविष्य में कर्जदाता के लिए जोखिम काफी बढ़ सकता है। वहीं, ग्राहक के पास पहले से कोई लोन होने की स्थिति में कर्जदाता होम लोन का अमाउंट भी कम कर सकता है। इसलिए अपनी होम लोन योग्यता को बढ़ाने के लिए ग्राहक को अपने मौजूदा लोन्स का पूर्व भुगतान कर देना चाहिए।

स्टेप-अप लोन का भी कर सकते हैं चुनाव

स्टेप-अप लोन कम मासिक आय वाले लोगों के लिए बेहतर होता है। इसमें ग्राहक को बड़ी लोन ईएमआई नहीं देनी होती है। इस तरह के लोन में कर्जदाता कम राशि की ईएमआई वाले लोन की पेशकश करता है। इससे देनदार वित्तीय रूप से अधिक स्थिर रह पाता है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप