नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। डिजिटल बैंकिंग के बढ़ने के साथ-साथ धोखाधड़ी के केस भी तेजी से बढ़े हैं। इस बीच अनधिकृत और धोखाधड़ी लोन देने वाले ऐप्स में वृद्धि हुई है। हालांकि, डिजिटल बैंकिंग के माध्यम से कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन लोन के लिए आवेदन कर सकता है। लेकिन जब आप आवेदन करें तो अपनी व्यक्तिगत जानकारी/दस्तावेजों को ऑनलाइन शेयर करते समय बेहद सतर्क रहें।

वेबसाइट पर ध्यान दें: लोन लेने से पहले दस्तावेज को सुरक्षित रखने और भविष्य में किसी भी तरह के छिपे हुए शुल्क से बचने के लिए वेबसाइट या ऐप पर नियमों और शर्तों को अच्छे से पढ़ लें। लोन देने वाला अगर अप्रूवड होगा तो उसके पास अपनी वेबसाइट/ऐप पर स्पष्ट रूप से लिस्टेड नियम और शर्तें, गोपनीयता नीति आदि होते हैं।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhaar का कहां-कहां हुआ है इस्तेमाल, घर बैठे ऐसे लगाएं पता

लोन देने वाले की विश्वसनीयता: लोन लेते समय या ऑनलाइन आवेदन करते समय यह जांचना जरूरी है कि आप जिससे लोन ले रहे हैं वह वास्तविक है और RBI द्वारा अप्रूव्ड है। इसके अलावा वेबसाइट/ऐप पर जाकर चेक करना चाहिए, क्योंकि वेबसाइट/ऐप/सोशल मीडिया अकाउंट्स का लुक और फील लोन देने वाले की विश्वसनीयता और प्रामाणिकता के बारे में आपको पहचानने में मदद करेगा।

संचार का माध्यम: लोन लेने वालों को सुरक्षित तरीके से अपने पर्सनल डिटेल और जरूरी दस्तावेजों को शेयर करना चाहिए। आप चाहें तो पासवर्ड के साथ दस्तावेजों को सुरक्षित रख सकते हैं, ताकि दस्तावेजों और डेटा का कोई दुरुपयोग न हो और केवल लोन देने वाला ही पासवर्ड के जरिये उन्हें एक्सेस कर सकें।

ऑनलाइन रिव्यू: अनधिकृत उधार देने वाले ऐप्स के शिकार होने से बचने के लिए व्यक्तिगत दस्तावेज़ और डेटा साझा करने के लिए प्ले स्टोर या ऐप स्टोर या यहां तक कि Quora पर ऐप रिव्यू के माध्यम से जाना समझदारी है। इस तरह लोन देने वाले के बारे में पूरी तरह सुनिश्चित हुआ जा सकता है।

Edited By: Nitesh