नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क) हाल ही में एक रिपोर्ट आई है कि खातों में न्यूनतम बैलेंस नहीं रखने पर देश के 24 सार्वजनिक व निजी बैंकों ने बीते चार साल में ग्राहकों से 11,500 करोड़ रुपये जुर्माने के तौर पर वसूले हैं। वित्त वर्ष 2017-18 में अकेले भारतीय स्टेट बैंक ने इस मद में ग्राहकों से 2,400 करोड़ रुपये की राशि वसूली है। न्यूनतम बैलेंस नहीं रखने पर निजी क्षेत्र के तीन बैंकों एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक और आइसीआइसीआइ बैंक ने जुर्माना वसूला। बीते वित्त वर्ष में इनमें से एचडीएफसी बैंक ने सर्वाधिक 591 करोड़ रुपये वसूले।

ऐसे में आपके साथ भी यह समस्या है कि मिनिमम बैलेंस चार्ज से कैसा बचा जाए। अगर आप इन दो बातों पर गौर करेंगे तो मिनिमम बैलेंस चार्ज का जुर्माना नहीं लगेगा।

बता दें कि मिनिमम बैलेंस मंथली एवरेज बैलेंस होता है। मिनिमम बैलेंस के तहत आपको अपने खाते में हर समय 5 हजार रुपये नहीं रखना है, चुकी एक महीने के भीतर आपके खाते में जो भी रकम जमा होती है या फिर निकाली जाती है, महीने के अंत में उसका औसत निकाला जाता है।

पहले तो आप मिनिमम बैलेंस कैल्कुलेट कर लीजिए, मान के चलिए किसी बैंक में आपका खाता है और उसमें हर महीने 4 हजार रुपये मिनिमम बैलेंस रखने की शर्त है तो आप जुर्माने से बचने के लिए हर महीने अपने खाते में 4 हजार रुपये की राशि जमा रखिये। महीने के अंत में इसका मंथली एवरेज निकलेगा, वह 4 हजार रुपये होगा।

भारतीय स्टेट बैंक समेत कई बैंकों में मिनिमम एवरेज बैलेंस रखने की लिमिट 3000 रुपये है।

सबसे पहले तो आपको समझना होगा कि मिनिमम बैलेंस और मंथली एवरेज बैलेंस कैसे कैलकुलेट किया जाता है। इस फॉर्मूले से आप आसानी से समझ सकते हैं।

 

  • मान लीजिए किसी बैंक में आपका खाता है और 1 जुलाई को उसमें 4000 रुपये है
  • 12 जुलाई को आपने अपने खाते से 3000 रुपये निकाल लिए
  • 18 जुलाई को आपने 9000 रुपये जमा कर दिए
  • 1 जुलाई से 12 जुलाई तक 11 दिन का टोटल बैलेंस होगा 4000X11, तो यह हुआ 44000 रुपये
  • 12 जुलाई से 18 जुलाई तक टोटल बैलेंस 1000X6 तो यह हुआ 6000
  • 18 जुलाई से 31 जुलाई तक 10000X13 तो यह हुआ 1.3 लाख
  • टोटल बैलेंस आता है 1.8 लाख और 31 दिन का औसत निकालें तो यह होगा 5806
  • यह बैलेंस आपके मिनिमम बैलेंस से ज्यादा है

बता दें कि मंथली एवरेज बैलेंस कैल्कुलेट करते वक्त अवकाश वाले दिन की भी गिनती होती है।

Posted By: Nitesh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप