Menu
blogid : 14887 postid : 1133599

प्लेन क्रैश होने पर इस टेक्नोलॉजी से बचाई जा सकेगी यात्रियों की जान

International Affairs

  • 94 Posts
  • 5 Comments

यूक्रेन के एक एविएशन इंजीनियर ने अपनी जिंदगी के तीन साल एक ऐसी खोज में लगाई जो अगर कामयाब हुई तो कई यात्रियों की जान बचाई जा सकती है. इस इंजीनियर का नाम है व्लादिमिर तातारेंको.


cabin-plane


आज विश्व के बड़े-बड़े इंजीनियर इस काम में जुड़े हुए हैं कि बढ़ती दुर्घटना के बीच कैसे प्लेन यात्रियों को ज्यादा सुरक्षित और बेहतर माहौल दिया जाए. व्लादिमिर तातारेंको ने एक ऐसी टेक्नोलॉजी ईजाद की है जिसकी सहायता से इमरजेंसी के दौरान प्लेन पैसेंजर्स की जिंदगी बचाई जा सकेगी.


Read: वाह! ट्रेन में लें सकते हैं यात्री हवाईजहाज का मजा


इस नई टेक्नोलॉजी के तहत अगर प्लेन क्रैश होता है तो पैराशूट के जरिए सेफ लैंडिग कराई जा सकेगी. दरअसल इस टेक्नोलॉजी में प्लेन में डिटेचेबल यानी अलग हो सकने वाले पैसेंजर केबिन लगाए जाएंगे जो हादसे के दौरान या इमरजेंसी के समय प्लेन से अलग हो जाएगा और केबिन की छत पर लगे पैराशूट की मदद से केबिन की जमीन या पानी पर सेफ लैंडिग कराई जा सकेगी.


image85

इस नई टेक्नोलॉजी की केबिन के डिजाइन में केवलर और फ्यूजलेग, विंग्स, फ्लैप्स, स्पॉइलर्स के लिए कार्बन कंपोजिट का इस्तेमाल किया गया है. ऐसा इसलिए क्योंकि पैराशूट जब इसे लेकर लैंड करें तो तुलनात्मक रूप से कम वजन हो. इसमें रबर ट्यूब्स भी लगाई जाएगी, ताकि जमीन और पानी पर लैंडिंग के समय रबड़ फुल जाए और झटका न लगे.


व्लादिमिर का कहना है कि अगर प्लेन के अंदर धमाका या उस पर अटैक होता है, तब यह टेक्नोलॉजी काम नहीं करेगी. व्लादिमीर ने पिछले साल ही इस ‘एस्केप कैप्सूल सिस्टम’ का पेटेंट रजिस्टर्ड कराया है. हालांकि कुछ लोग व्लादिमिर की इस टेक्नोलॉजी पर सवाल भी उठा रहे हैं कि इस नई टेक्नोलॉजी के आने से संभव है कि यात्री किरायों में भी वृद्धि होगी…Next


Read more:

सबूत कहते हैं कि एमएच370 एलियन के कब्जे में हो सकता है, लेकिन कैसे?

देश की इस पहली महिला का कागज के प्लेन से लड़ाकू विमान तक का सफर

प्लेन क्रैश में सभी यात्रियों की हुई मौत, मलबे में यह बच्चा निकला जिंदा



Read Comments

Post a comment

Leave a Reply