Menu
blogid : 14530 postid : 1387568

मेहनतकश रो रहे!

tarkeshkumarojha

tarkeshkumarojha

  • 319 Posts
  • 96 Comments

कोरोना और लॉकडाउन के पश्चात परिस्थितियां कुछ यूं बनती जा रही है कि आदमी अपनी मूल स्वाभाविक प्रकृति के विपरीत घरों में नजरबंद सा होने को मजबूर है। इसी विडंबना पर पेश है खांटी खड़गपुरिया तारकेश कुमार ओझा की चंद लाइनें ….

घरों में रहना ही अब हो गया काम
दुनिया का दस्तूर कब बदल गया हे राम

आदमी तो आदमी जानवर भी भूखे सो रहे
निठल्लों का पता नहीं मेहनतकश रो रहे

ना एंबुलेंस की कांय – कांय
ना पुलिस गाडियों की उड़े धूल

बस्तियों में बरसे सुख – चैन
मंदिरों में श्रद्धा के फूल

————–
लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं। संपर्कः 9434453934, 9635221463

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply