Menu
blogid : 14530 postid : 1387544

जब बुखार बन गया फीवर

tarkeshkumarojha

  • 314 Posts
  • 96 Comments

जैसे गांव का गबरू गब्बर बन गया था . वैसे ही कोरोना काल में कल का बुखार फीवर बन आतंक का पर्याय बन गया . इससे दुनिया में मची उथल – पुथल पर पेश है खांटी खड़गपुरिया तारकेश कुमार ओझा की चंद लाइनें ….

—————————-

एक था गबरू
बन गया गब्बर
देश – दुनिया में खूब
मचाया अंधेर
नए जमाने में उसी के रीमेक
की तरह बुखार बन गया फीवर
जिसके नाम से अब दुनिया कांपे थर – थर
नाम सुनते ही क्या राजू क्या राजा
पसीने से हो रहे तर – बतर
बुखार वाले को देखते ही क्या छोटे क्या बड़े
अच्छे-अच्छे डॉक्टर भी कर रहे
हाथ खड़े
दौडो-भागो टेस्ट कराओ
नहीं तो कहीं जाकर मर जाओ .
ट्रेन बंद , प्लेन बंद
बंद मेला – ठेला
सिर्फ़ दवा दुकानों के सामने
दिखता है इंसानों का रेला.

 

-लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं। संपर्कः 9434453934, 9635221463

 

 

 

डिस्क्लेमर : उपरोक्त विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी हैं। जागरण जंक्शन किसी दावे या आंकड़े की पुष्टि नहीं करता है।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply