Menu
blogid : 14530 postid : 1387533

घर में रहता हूं …!!

tarkeshkumarojha

  • 314 Posts
  • 96 Comments

 

लॉक डाउन और कोरोना की त्रासदी ने आदमी की जिंदगी को अनचाही कैद में तब्दील कर दिया है. पेश है इसी विडंबना पर खांटी खड़गपुरिया की चंद लाइनें ….
घर में रहता हूं ….!!

 

 

लॉक डाउन है , इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं.
बाल – बच्चों को निहारता हूं , लेकिन आंखें मिलाने से कतराता हूं.
डरता हूं , थर्राता हूं .
लॉक डाउन है , इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं .

 

बिना किए अपराध बोध से भरे हैं सब
इस अंधियारी रात की सुबह होगी कब .
मन की किताब पर नफे – नुकसान का हिसाब लगाता हूं .
लॉक डाउन है , इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं .

 

सामने आई थाली के निवाले किसी तरह हलक से नीचे उतारता हूं .
डरता हूं , घबराता हूं , पर सुनहरे ख्वाब से दिल को भरमाता हूं .
लॉक डाउन है , इसलिए आजकल घर पे ही रहता हूं .

 

तारकेश कुमार ओझा, लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं। संपर्कः 9434453934, 9635221463

 

 

डिस्क्लेमर : उपरोक्त विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी हैं। जागरण जंक्शन किसी भी दावे या आंकड़े की पुष्टि नहीं करता है।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply