Menu
blogid : 14530 postid : 1387527

खुली आंखों का सपना….!!

tarkeshkumarojha

  • 314 Posts
  • 96 Comments

लॉक डाउन और कोरोना की त्रासदी में असली जिंदगी भी सपनों सी हो चली है . पेश है इसी विडंबना पर खांटी खड़गपुरिया की चंद लाइनें ….
खुली आंखों का सपना ….!!

 

सुबह वाली लोकल पकड़ी
पहुंच गया कलकता
डेकर्स लेन में दोसा खाया
धर्मतल्ला में खरीदा कपड़ा – लत्ता
सियालदह – पार्क स्ट्रीट में निपटाया काम
दोस्तों संग मिला – मिलाया
जम कर छलकाया कुल्हड़ों वाला जाम
मिनी बस से हावड़ा पहुंचा
भीड़ इतनी कि बाप रे बाप
लोकल ट्रेन में जगह मिली तो
खाई मूढ़ी और चॉप
चलती ट्रेन में चिंता लगी झकझोरने
इस महीने एक बारात
और तीन शादी है निपटाने
नींद खुली तो होश उड़ गया अपना
मैं तो खुली आंखों से देख रहा था सपना

 

 

तारकेश कुमार ओझा- लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं। संपर्कः 9434453934, 9635221463

 

 

 

डिस्क्लेमर : उपरोक्त विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी हैं। जागरण जंक्शन किसी भी दावे या आंकड़े की पुष्टि नहीं करता है।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply