Menu
blogid : 8865 postid : 1366572

वे लोग बहुत ही खुशनसीब होते हैं

SYED ASIFIMAM KAKVI

  • 104 Posts
  • 44 Comments

वे लोग बहुत ही खुशनसीब होते हैं, जो अपनी जिंदगी में एक बार अल्लाह का घर (मक्का) देख लेते हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं, जिन्हें बार-बार घर देखने की ख्वाहिश होती है। इन्हीं में एक हैं कानपुर शहर की रहने वाले हाजी सैयद मोहम्मद मुनज़िर चिश्ती बरकाती (72) जो एक-दो बार नहीं बल्कि अब तक 25 बार हज और 45 बार से जियादा उमरा कर चुके हैं।उनके बेड साहबजादे सैयद मोहम्मद मजाहिर दानिश का दावा है कि वे देश में सबसे ज्यादा बार हज यात्रा करने वाले शख्स मैं से इक होंगे। हाजी सैयद मोहम्मद मजाहिर दानिश ने अभी अभी तक 16 बार हज यात्रा गए है ै । हाजी सैयद मोहम्मद मुनज़िर चिश्ती बरकाती पहली बार 1985 में की थी हज वर्ष 1947 में जन्मे हाजी सैयद मोहम्मद मुनज़िर चिश्ती बरकाती वर्ष 1985 में पहली बार हज यात्रा की थी। लगातार 20 बार हज किया इसके बाद वे एक-दो वर्ष के अंतराल में हज पर गए। इस दौरान 18 बार उमरा करने भी गए। अंतिम बार वर्ष 2012 में हज पर गए थे। कुल मिलाकर अपनी 72 वर्ष की जिंदगी में 30 बार सऊदी अरब गए। अभी भी हज यात्रा पर फिर जाने की उनकी दिली ख्वाहिश है। दुआ लेने वालों की लगी रहती है भीड़ हाजी सैयद मोहम्मद मुनज़िर चिश्ती बरकाती दूसरे के नाम पर हज कर चुके हैं। इसे ‘हज-ए-बदल’ कहा जाता है। इसमें कोई शख्स किसी और के नाम से हज करता है। इसके तहत उन व्यक्तियों के नाम पर भी हज यात्रा की जा सकती है जो इस दुनिया को छोड़ चुके हैं। दूसरे के नाम पर हज वही कर सकता है, जो पहले अपने खर्चे से हज कर चुका हो। वैसे तो इसका कोई पुख्ता हिसाब मौजूद नहीं है पर अपनी जानकारी के मुताबिक दावे के साथ कह सकता हूं कि देश में सबसे ज्यादा बार हज यात्रा पर जाने वाले व्यक्ति हाजी सैयद मोहम्मद मुनज़िर चिश्ती बरकाती ही हैं। हर मुस्लिम की ख्वाहिश होती है एक बार हज पर जाने का मौका मिले हाजी सैयद मोहम्मद मुजाहिद चिश्ती साहबजादे हाजी सैयद मोहम्मद मुनज़िर चिश्ती बरकाती भी जाने वालों में शामिल हैं। अभी तक 20 बार यात्रा गए है। Chishti Tour & Travel & Danish Tour Travels के owner & directors हाजी सैयद मोहम्मद मुनज़िर चिश्ती बरकाती मुताबिक पांच दिन में हज मुक्कम्मल होता है। पहले दिन आजमीन ए हज मक्का से मीना के लिए रवाना होते हैं। सुबह फज्र की नमाज अदा कर अराफात में दिन भर इबादत करने के बाद मीना में जमरात (शैतान) को कंकर मारने की रस्म अदायगी होगी। कुर्बानी करेंगे और मानी वौट आएंगे। इस तरह हज मुकम्मल हो जाएगा। अराफ़ात में दोपहर 12:30 बजे हज का खुत्वा होगा। जोहर और असर ए कसर नमाज़ अदा की जायेगी। कहते हैं कि मुसलमानों के लिए हज पर जाना सबसे बड़ी कामयाबी होती है. भारत का ज्यादातर मुसलमान अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा जमा कर हज पर जाता है. लाखों मुसलमान दुनिया के अलग-अलग देशों से सऊदी अरब पहुंच रहे हैं हज मुबारक का मुकम्मल दिन आ गया है। दो लाख भारतीय मुसलमान आजमीन ए हज सऊदी अरब में है, और उनके लाखों लाखों हमदर्द दुआ कर रहे हैं। हर मुसलमान की हज करने की तमन्ना रहती है। एक अच्छे और सच्चे मुसलमान के लिए रोज़ा रखना, पाँच वक्त की ऩमाज पढ़ना, ज़कात देना और तमाम उम्र में कम से कम एक बार हज करना लाज़मी है।Chishti Tour & Travel & Danish Tour Travels आप की खिदमत में 27 years खड़ा है Chishti Tour & Travel खुद एक ब्रांड नेम है आज इस साल का लखनऊ एयरपोर्ट से 150 लोगों रवाना हुआ अल्लाह पाक से दुआ है और जो लोग पूरी दुनिया से हज यात्रा गए हैं उनका हज उमरा मुकम्मल हो और आपके और हम सबके हज यात्रा को सरल, सुगम और बेहतरीन यात्रा करना हो तो Chishti Tour & Travel & Danish Tour Travels से हज उमरह से करे, Danish Tour Travels मैनेजिंग डायरेक्टर ने बताया की हमारे यहाँ लखनऊसे जिद्दा, जिद्दा से लखनऊ की हवाई जहाज की टिकट उचित मूल्य पर मुहैया करवायी जाती है.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply