Menu
blogid : 312 postid : 937

गेंदबाज़ी का कप्तान

ज़हीर खान एक अच्छे गेंदबाज़ हैं, लेकिन कितना अंतर वह ला सकते हैं टीम इंडिया के गेंदबाजों के प्रदर्शन पर?

Zaheer Khanडरबन टेस्ट शुरू होने से पूर्व यह सवाल सभी की जबान पर था. क्रिकेट प्रेमियों का कहना था कि क्या कोई गेंदबाज़ जो सिर्फ 130 की स्पीड से गेंद फेंकता है, जिसका रनअप केवल 13 कदमों का है भारतीय गेंदबाज़ी में जान डाल सकता है, और वह भी उस टीम में जिसने पहले टेस्ट मैच में 130 ओवर में केवल चार विकेट लिए? शायद ज़हीर की प्रतिभा पर संदेह करने वालों ने ज़हीर की टीम इंडिया में उपयोगिता को कम आंका.

ज़हीर खान टीम इंडिया की गेंदबाज़ी डिपार्टमेंट का कप्तान है वह कप्तान जिसे क्रिकेट में उपयोग की जाने वाली तीनों गेंदें डयूक, एसजी और कूकाबुरा को कैसे इस्तेमाल करना है, में महारत हासिल है. शायद ज़हीर की काबलियत पर प्रश्न खड़ा करने वालों ने ज़हीर को भारतीय उपमहाद्वीप में गेंदबाज़ी करते देखा था.

डरबन की पिच में उछाल वाली पिच गेंदबाजों की मददगार थी, लेकिन केवल परिस्थितियां अनुकूल होने से कुछ नहीं होता बल्कि आपको उन परिस्थितियों का भरपूर फायदा उठाना होता है. जिस चीज़ की कमी भारतीय गेंदबाजों में पहले टेस्ट मैच में पूरी तरह देखी गयी. लेकिन ज़हीर खान ऐसे गेंदबाज़ हैं जो किसी भी परिस्थिति को India Vs South Africaखाली नहीं जाने देते. पहली पारी में भी बल्लेबाजों का फ्लॉप शो ज़ारी रहा. केवल 205 रनों पर सिमटी भारतीय टीम जीत की आशा तभी कर सकती थी जब उनके गेंदबाज़ अच्छा प्रदर्शन करें.

वापसी कर रहे ज़हीर खान की गेंदबाज़ी देख यह नहीं लग रहा था कि वह अभी भी पूरी तरह फिट हैं लेकिन वापसी करने को बेकरार ज़हीर ने अल्वीरो पीटरसन को पहले ही ओवर से परेशान करना शुरू कर दिया. ओवर की चौथी गेंद बल्ले का बाहरी किनारा लेते हुए चार रन के लिए गयी. दक्षिण अफ्रीका का खाता तो खुला लेकिन उनके सलामी बल्लेबाजों में संदेह की स्थिति छा गयी. पीटरसन ने पूरा प्रयास किया कि स्मिथ ज़हीर का सामना न करें लेकिन कब तक. पांचवें ओवर की दूसरी और तीसरी आउटस्विंग गेंद स्मिथ खेल नहीं पाए, चौथी गेंद इनस्विंग थी स्मिथ फिर बचे लेकिन पांचवीं गेंद के सामने स्मिथ ने घुटने टेक दिए. 21 पारियों में यह 10वीं बार था जब ज़हीर ने स्मिथ को आउट किया. मतलब इस बार भी जीत ज़हीर की हुई, पीटरसन और कैलिस थोड़े दुर्भाग्यपूर्ण रहे. लेकिन ज़हीर ने दोनों को परेशान किया. यही नहीं खराब लय में दिख रहे श्रीसंत और इशांत जब भी खराब गेंदबाज़ी करते उस समय ज़हीर का मुंह देखने लायक था. भारतीय गेंदबाज़ी कप्तान का यह गुस्सा बेकार नहीं गया और ठीक लंच से पहले श्रीसंत ने जिस तरह एबी डी विलियर्स को आउट किया उसे देख लगता था कि भारतीय गेंदबाजी लय में आ रही है.

Harbhajann Singhअगर ज़हीर भारतीय टीम के गेंदबाज़ी कप्तान हैं तो हरभजन सिंह उपकप्तान. कप्तान अच्छा प्रदर्शन करे और उपकप्तान देखता रहे ऐसा कहीं हो सकता था. दूसरे ही ओवर में अमला के विकेट ने हरभजन के आत्म सम्मान में चार-चाँद लगा दिए. और फिर क्या था हरभजन सिंह के रनअप में वह उछाल भी थी जो पहले टेस्ट मैच में कहीं नहीं दिखी थी. टॉप स्पिन, ऑफब्रेक, दूसरा, आर्मबॉल भज्जी के तरकस से किस्म-किस्म के बाण निकलने लगे जिसका तोड़ अफ़्रीकी बल्लेबाजों के सामने नहीं था. पिछले मैच में जहां हम बेबस दिखे वही कल डरबन में अफ़्रीकी बल्लेबाज़ बेबस दिखे.

मौजूदा समय में डरबन टेस्ट में भारतीय टीम दक्षिण अफ़्रीकी टीम से बीस है लेकिन अगर हमें टेस्ट सीरीज में वापसी करनी है तो पहले बल्लेबाजों को कम से कम 250 रन बनाने होंगे और एक बार फिर गेंदबाजों को अच्छा प्रदर्शन करना होगा.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *