Menu
blogid : 312 postid : 1404

टेबल टेनिस की बारीकियों को जानें

tabel Tennisभारत की चार सदस्यीय टेबल टेनिस (Table tennis) टीम अचंत शरत कमल की अगुआई में मंगलवार को अंतिम ओलम्पिक क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए दोहा रवाना हो गई. यह टूर्नामेंट अचंत शरत कमल के साथ-साथ एंथनी अमलराज और पॉलोमी घटक तथा शामिनी कुमारेसान के लिए बेहद ही जरूरी टूर्नामेंट है. इसी टूर्नामेंट में ही तय होगा कि वह लंदन के लिए टिकट कटा पाएंगे या नहीं. पिछले महीने हांगकांग में आयोजित एशियाई क्वालीफिकेशन टूर्नामेंट में इनको हार का सामना करना पड़ा जबकि भारत की ओर से युवा सौम्यजीत घोष और अंकिता दास ने लंदन ओलम्पिक के लिए क्वालीफाई कर लिया है. ओलंपिक के लिए ये खिलाड़ी क्वालीफाई करते हैं ये तो बाद में पता चलेगा उससे पहले आइए जानते हैं टेबल टेनिस से जुड़े कुछ रोचक तथ्य.


टेबल टेनिस खेलों को आयोजित कराने और उस पर नियंत्रण रखने के लिए अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस संघ की स्थापना 1926 में की गई. यह वैश्विक संगठन है. फिलहाल इस संगठन में 215 सदस्य हैं. इस खेल की अलग-अलग श्रेणियां है जिसमें शामिल हैं पुरुष एकल, महिला एकल, पुरुष युगल और महिला युगल.


टेबल टेनिस एक समय में दो (एकल) या चार (युगल) खिलाड़ियों के बीच खेला जाता है. प्रत्येक खिलाड़ी के पास एक बल्ला (रैकेट) होना आवश्यक है. यह रैकेट रबड़ से लेमिनेट किया हुआ होता है. टेबल की लंबाई 9 फुट, चौड़ाई 5 फुट, सतह की मोटाई 1 इंच (या 3/4 इंच भी) तथा भूमि से ऊंचाई 2.5 फुट होती है. लकड़ी के अलावा स्लेट, कांच या प्लास्टिक की सतह के टेबल भी बनाए जाते हैं. टेबल के बीच जाल तना रहता है जिसकी चौड़ाई में आर-पार 6 इंच ऊंचा, और लंबाई 183 सेंटीमीटर होता है. अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस संघ द्वारा मंजूर टेबल की सतह ग्रीन या ब्लू होनी चाहिए. गोलाकार गेंद जिसका व्यास 37.2 मिलीलीटर से कम तथा 40 मिलीमीटर से अधिक नहीं होता. इसका भार 2.7 ग्राम होता है.


क्या है नियम

सर्विस में गेंद का सम्पर्क करता हुआ मुक्त हाथ खुला, अंगुलियाँ जुड़ी हुई तथा अंगूठा मुक्त रहता है. सर्विस की हुई गेंद खिलाड़ी द्वारा इस प्रकार प्रहारित की जाएगी कि सीधे जाल को पार करके विरोधी के क्षेत्र को स्पर्श कर ले. यदि खिलाड़ी बिना टप्पा खाए गेंद को वापिस लौटाता है या टेबल की सतह को हाथ से छूता है या फिर टेबल को हिलाता है तो ऐसी परिस्थिति में खिलाड़ी अपना अंक खो सकता है. इसके अलावा बीच-बीच में अंपायर द्वारा चेतावनी भी दी जाती है अगर कोई खिलाड़ी इसका अनुसरण नहीं करता तो वह अपने अंक खो सकता है.

पूरे मैच में अगर कोई खिलाड़ी 11 अंक प्राप्त कर लेता है तो उसे विजेता घोषित कर दिया जाता है. मैच एक, तीन और पांच सेटों का होता है. खेल उस समय तक जारी रहता है जब तक कोई खिलाड़ी या युगल खिलाड़ी विश्राम के लिए नहीं कहता.


Read Hindi News


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *