Menu
blogid : 312 postid : 305

अब शायद जीत जाएं

rainaपिछले कुछ समय से रुला रही भारतीय क्रिकेट टीम ने अपने प्रशंसकों को आखिरकार बत्तीसी दिखाने के लिए कुछ लम्हें दे ही दिए. भला हो रैना, युसूफ पठान और गेंदबाजों का जिन्होंने जिम्बाब्वे को दोनों टी20 मुकाबले में आसानी से हरा दिया. लेकिन क्या इस जीत को हम आसान जीत कहते हैं, जब पहले मैच में 112 रनों का पीछा करते हुए हम 40 रन पर अपने शुरूआती चार विकेट खो देते हैं और दूसरे मुकाबले में आखरी के ओवरों में इतना पिटाते है कि गेंद भी रोने लगती है परन्तु चलो जीते तो हम.

 

asia cupलेकिन अब मंच बड़ा हो चला है, अब खड़ी है चुनौती एशिया के सिकंदर कहलाने की. जिम्बाब्वे श्रंखला के बाद एशिया कप के लिए कप्तान बदल गया है, टीम बदल गयी है, कुछ चोटिल हैं तो कुछ को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. अब तो टीम इंडिया के सीनियर सिटिजन कहे जाने वाले खिलाड़ियों को आराम भी मिल गया है. अब न तो आईपीएल की थकान रोड़ा बनने वाली है न तो वेस्टइंडीज की उछाल भरी पिचों के बाउंसर आड़े आने वाले और अब माहौल भी घर जैसा है. तो मान लिया जाये कि एशिया कप अब भारत में ही आने वाला है. परंतु क्या कप्तान कूल धोनी इस बात पर मोहर लगा सकते हैं कि हम ही जीतेंगे? शायद इस प्रश्न का ज़वाब वक्त ही बताएगा लेकिन यह बात तो पक्की है कि अगर धोनी की किस्मत ने रंग दिखाया तो यह होगा नंबर 11वां.

 

yuvraj-singh-zaheer-khan-mahendra-dhoni-virender-sehwag-harbhajan-singh-2009-5-29-3-50-40अब अगर हम आराम की बात करें तो धोनी, भज्जी, ज़हीर, गौतम गंभीर, नेहरा, प्रवीण कुमार और सहवाग ने बहुत आराम कर लिया है. शायद इन्होंने इन दिनों अपना वज़न भी घटाया हो और कुछ ने विज्ञापन द्वारा पैसा भी कमाया हो. लेकिन दूसरी तरफ़ रैना, रोहित शर्मा, रविन्द्र जडेजा, युसूफ पठान, प्रज्ञान ओझा, अशोक डिंडा, विराट कोहली और आश्विन को तो शाररिक और मानसिक यातना झेलनी पड़ रही है लेकिन कैसे. देखिए पहले तो 13 तारीख तक इन्होंने मैच खेले और अब 36 घंटों का सफर कर इनको श्रीलंका पहुचना है. जहाँ जिम्बाब्वे में इनको ठंडे मौसम का सामना करना पड़ा वहीं अब श्रीलंका में इनको गर्मी और उमस के बीच अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा तो हो गया न टार्चर. पर क्या इतनी यातना सहने के बाद यह खिलाड़ी अच्छा खेल दिखा पाएंगे? अगर टीम में अपनी जगह पक्की करनी है तो इन्हें खेलना ही होगा.

 

Yuvraj Singhयुवराज बने यमराज

 

एक समय था जब युवराज सिंह को भारतीय टीम का युवराज कहा जाता था चाहे वह स्टुअर्ट ब्राड के एक ओवर में लगाये छः छक्के हों या फिर श्रीलंका के खिलाफ़ नागपुर में खेली गयी मैच जिताऊ पारी. वह सभी के आँखों के तारे थे और धोनी के दुलारे थे. बॉलीवुड की अभिनेत्रियों के साथ उनका नाम जुड़ा रहता था. परन्तु आज इस भारतीय टीम के सबसे खतरनाक बल्लेबाज़ की टीम से छुट्टी कर दी गयी है, जिसका कारण उनका खेल के प्रति लचर प्रदर्शन और खराब फॉर्म बताया गया है. युवराज जी अगर क्रिकेट आप को राजा बनाता है तो आप को इसकी पूजा भी करनी चाहिये अगर यह आपसे रुष्ट हो गया तो आपको मुंह के बल गिराता है.

 

Saurabh-Tiwaryझारखण्ड का दूसरा धोनी

 

अभी तक आपने सौरभ तिवारी को आईपीएल में गेंदबाजों के छक्के छुड़ाते देखा था. एक के बाद एक इस सुनहरे, लंबे बाल वाले खिलाड़ी ने मुंबई को कई मैच जिताए और मुंबई को फाइनल तक पहुचाने में अहम भूमिका निभाई इसके अलावा घरेलू प्रतियोगितओं में भी उन्होंने बेहतरीन खेल खेला है और इसी का परिणाम उनको मिला भारतीय टीम में चुनने के साथ. अब अगर वह अच्छा खेले तो बल्ले-बल्ले वरना दूसरे लाइन में खड़े हैं.

Tags:               

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *