Menu
blogid : 312 postid : 1080

अब और नहीं होगा बूम बूम : अफरीदी हुए रिटायर

कभी अपने बल्ले से तो कभी अपनी गेंदों से मैदान पर आग उगलने वाले विस्फोटक बल्लेबाज और पूर्व पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) ने अपने देश के क्रिकेट बोर्ड से मतभेद होने के चलते समय से पहले संन्यास लेने की घोषणा कर दी. पाकिस्तान बोर्ड (PCB) और खिलाड़ियों की तनातनी में एक और बेमिसाल खिलाड़ी हलाल हो गया.


Shahid Afridiस्टार खिलाड़ी अफरीदी(Shahid Afridi)  का पिछले काफी समय से पाकिस्तान बोर्ड के साथ मतभेद चल रहा है. हाल ही में शाहिद अफरीदी को क्रिकेट विश्व कप(Cricket World Cup) के सेमीफाइनल(Semi Final) में मिली हार के बाद कप्तानी से हटा दिया गया था.


अफरीदी (Shahid Afridi) ने पिछले साल टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. उनका मानना है कि उनमें टेस्ट मैच खेलने के लिए संयम नहीं है. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट(International Cricket ) से अभी उनका सन्यास लेने का मन नहीं था पर उन्होंने कहा कि एक ऐसे क्रिकेट बोर्ड के तहत खेलना उनके लिए मुश्किल भरा है जो वरिष्ठ खिलाड़ियों का सम्मान नहीं कर सकता हो.


शाहिद अफरीदी(Shahid Afridi) की कप्तानी में पाकिस्तानी टीम ने क्रिकेट विश्व कप में सेमीफाइनल तक का सफर तय किया. टूर्नामेंट की शुरुआत में पाकिस्तानी टीम कई तरह के दवाबों से गुजर रही थी और उसे बेहद कमजोर टीम माना जा रहा था. लेकिन शाहिद अफरीदी की कप्तानी और बेहतरीन गेंदबाजी की बदौलत पाकिस्तान(Pakistan) ने सेमीफाइनल तक का सफर तय कर लिया लेकिन सेमीफाइनल में भारत से मिली हार को पाकिस्तान बोर्ड पचा नहीं सका और उसका असर यह हुआ कि आज पाकिस्तान(Pakistan) टीम से सबसे सीनियर और बेहतरीन खिलाड़ी को रिटायरमेंट लेना पड़ रहा है.


Boom Boom Afridi शाहिद अफरीदी ने अपने कैरियर की शुरुआत 1996 में केन्या(Kenya) के खिलाफ की. और इसके अगले ही मैच में शाहिद अफरीदी ने जो किया वह आज तक इतिहास बना हुआ है. शाहिद ने इस मैच में श्रीलंका के खिलाफ मात्र 37 गेंदों पर तेज-तर्रार शतक ठोंक डाला था. इसके बाद तो जैसे शाहिद अफरीदी क्रिकेट की दुनिया में तूफान से बन गए जो जब भी मैदान पर आते थे विस्फोटक बल्लेबाजी ही करते थे.


बूम बूम अफरीदी के नाम से प्रसिद्ध शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi)  एक बेहतरीन बल्लेबाज होने के साथ एक बेहतरीन गेंदबाज भी हैं. अपने गेंदों से उन्होंने अब तक 300 से ज्यादा विकेट भी लिए हैं. 27 टेस्ट, 325 वनडे और 43 टी-20 मैच खेल चुके  अफरीदी(Shahid Afridi)  ने क्रिकेट विश्व कप 2011(World Cup 2011) में सर्वाधिक विकेट भी लिए हैं. हालांकि उनक बल्ला पूरे टूर्नामेंट में ही शांत रहा पर फिर भी पाकिस्तान को सेमीफाइनल में पहुंचाने का सबसे ज्यादा हाथ अफरीदी का ही था.


इतने शानदार क्रिकेटर का जीवन हमेशा ही विवादों से जुड़ा रहा है. कभी बॉल को दांत से चबाने तो कभी विपक्षी खिलाड़ी से गाली-गलौज करने के विवाद से हमेशा ही वह टीम से अंदर बाहर होते रहे हैं.

इस पूरे प्रकरण ने एक बार फिर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की पोल खोल दी है. हाल के समय मंस कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से नाराज होकर इस्तीफा दे रहे हैं और ऐसे में अफरीदी जैसे सफल खिलाड़ी का संन्यास लेना पाकिस्तान क्रिकेट के लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है.


For Best of Shahid Afridi in Click here.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *