Menu
blogid : 312 postid : 1106

ताबड़तोड़ रोमांच के अगुवा जयसूर्या की विदाई


अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के पर्याय बन चुने जयसूर्या का क्रिकेट-सूर्य अब अस्त हो चला है. एक समय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सभी गेंदबाजों के लिए आतंक का पर्याय रह चुके श्रीलंकाई (Sri Lanka) सलामी बल्लेबाज सनथ जयसूर्या (Sanath Jayasuriya) की विदाई दो रनों की पारी के साथ हुई. अंतरराष्ट्रीय कॅरियर का आखिरी मैच खेल रहे जयसूर्या इंग्लैंड (England) के खिलाफ महज दो रन बनाकर ही आउट हुए.


Jayasuriyaअपने क्रिकेट कॅरियर के पहले मैच में जयसूर्या ने तीन रन बनाए थे. जयसूर्या ने अपना पहला एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच (One Day International) ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबोर्न (Melbourne) में 26 दिसम्बर, 1989 को खेला था जिसमें वे महज 3 रन बना पाए थे. पर इस मैच के बाद से श्रीलंका की तरफ से खेलने वाले इस विस्फोटक बल्लेबाज (Batsman) ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. वन डे क्रिकेट में शुरुआती ओवरों में फटाफट रन बटोरने की तकनीक को विकसित करने वाले जयसूर्या ने 1996 के विश्व कप में श्रीलंका को विजयी बनाने में अहम भूमिका निभाई.


Career Stats of Sanath Jayasuriya


जयसूर्या (Sanath Jayasuriya) ने श्रीलंका की ओर से 110 टेस्ट मैचों (Test Match) में 40.07 की औसत से 6973 रन बनाए हैं, जबकि इस दौरान उन्होंने 34.34 की औसत से 98 विकेट भी लिए. वहीं 445 वनडे मैचों (One Day Matches) में खेलते हुए इस आक्रामक बल्लेबाज ने 32.36 की औसत से 13,430 रन बनाए. इस दौरान उन्होंने 28 शतक और 68 अर्धशतक बनाए जबकि उनका स्ट्राइक रेट 91.21 का रहा. वनडे क्रिकेट में इस खिलाड़ी ने स्पिन गेंदबाजी करते हुए 36.75 की औसत से 323 विकेट भी झटके हैं.


पूर्व कप्तान (Former Captain) और श्रीलंका के सांसद जयसूर्या गुरुवार 30 जुलाई, 2011 को अपना 42वां जन्मदिन मनाएंगे. उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से बेहतर विदाई देने के लिए इंग्लैंड दौरे पर वनडे सीरीज के लिए चुने जाने का फैसला विवादास्पद रहा था. जयसूर्या ने हालांकि कहा था कि वह सिर्फ टी-20 मैच और पहले वनडे में ही खेलेंगे. अपने कॅरियर के आखिरी मैच में जयसूर्या ने गेंदबाजी करते हुए 6 ओवर डाले और 46 रन देकर ईयान बेल (Ian Bell) के रूप में अहम विकेट भी झटका. अपने शानदार वनडे कॅरियर के बेहतरीन समापन का उनका सपना पूरा नहीं हो सका. वह दो रन बनाकर टिम ब्रेसनन (Tim Bresnan) की गेंद पर ईयोन मोर्गन (Morgan) को कैच थमा बैठे.


जयसूर्या अब अपनी किस्मत राजनीति में आजमाने के मूड में हैं और अपनी इस पारी का आगाज उन्होंने अपने चिर-परिचित विस्फोटक अंदाज में किया है. फरवरी 2010 में सनथ अपने मतारा जिले से प्रत्याशी बने थे. जयसूर्या मौजूदा श्रीलंकाई राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे की यूनाइटेड पीपुल्स फ्रीडम अलायंस के समर्थक हैं. अपने पहले चुनाव में जयसूर्या 74,352 मतों से विजयी हुए है.


आज हम जिस फटाफट क्रिकेट को देखते हैं उसकी शुरुआत में जयसूर्या का बहुत बड़ा योगदान रहा है.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *