Menu
blogid : 312 postid : 1390202

चार टुकड़ों को जोड़कर बनती है पिंक बॉल, क्रिकेट की गुलाबी गेंद का इतिहास और तथ्‍य यहां जानिए

Rizwan Noor Khan

26 Nov, 2019

अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में भारतीय टीम ने पहली बार 22 नवंबर को पिंक बॉल से कोलकाता में डे नाइट टेस्‍ट मैच खेला और जीत लिया। भारत और बांग्‍लादेश की टीमों ने पहली बार पिंक बॉल से टेस्‍ट सीरीज खेली। खूब चर्चा में रही पिंक बॉल अन्‍य गेंदों से कैसे अलग है और इसके बनने की कहानी हम यहां बताने जा रहे हैं।

 

 

 

सफेद, लाल और अब गुलाबी गेंद
क्रिकेट के इतिहास पर नजर डालें तो शुरुआत में सिर्फ टेस्‍ट मैच ही खेले जाते थे। क्रिकेट के रोमांच को बढ़ाने के लिए इसमें वनडे फॉर्मेट को लाया गया। इसके बाद फटाफट क्रिकेट यानी टी20 फॉर्मेट को ईजाद किया गया। डे नाइट वनडे और टेस्‍टम मैचों में आमतौर पर सफेद और लाल बाल का इस्‍तेमाल किया जाता रहा है। लेकिन बाद में लाल और सफेद बॉल से मैच खेलने की धारणा को तोड़ते हुए गुलाबी गेंद को बनाया गया।

 

 

Image result for eden gardens pink ball

 

 

ऑस्‍ट्रेलिया और न्‍यूजीलैंड ने पिंक गेंद से खेला
क्रिकेट में पिंक बॉल से मैच खेलने की शुरुआत 2015 में की गई। ऑस्‍ट्रेलिया और न्‍यूजीलैंड ने नवंबर 2015 में गुलाबी गेंद से पहली बार टेस्‍ट मैच खेला। यह मैच सिर्फ तीन दिन में खत्‍म हो गया था। अब तक पिंक गेंद से कुल 12 अंतरराष्‍ट्रीय टेस्‍ट मैच खेले जा चुके हैं। लेकिन, यह सभी मैच तय पांच दिन तक नहीं चल सके और दोनों टीमें पहले ही ढेर हो गईं और नतीजा आ गया। भारत और बांग्‍लादेश ने 22 नवंबर को कोलकाता में पिंक बॉल से टेस्‍ट मैच खेला। इसमें भारत को जीत हासिल हुई।

 

 

Image

 

 

पिंक बॉल बनाने में चार चीजों का इस्‍तेमाल
पिंक बॉल को बनाने में मुख्‍य चार वस्‍तुओं का इस्‍तेमाल किया जाता है। इनमें कार्क, रबर, लेदर और रेशम का धागा मुख्‍य रूप से शामिल होता है। इन सभी वस्‍तुओं को कई स्‍तर पर जांचने के बाद ही बॉल बनाने की अनुमति दी जाती है। एक बार में तय संख्‍या में ही बॉल बनाई जाती हैं। जिस देश में पिंक बॉल से मैच खेला जाता है उस देश के क्रिकेट बोर्ड की मोहर बॉल पर लगना अनिवार्य होता है।

 

 

Image

 

 

बनने में लगता है चार गुना ज्‍यादा समय
बीसीसीआई के मुताबिक रेड बॉल की अपेक्षा पिंक बॉल की मेकिंग में चार गुना ज्‍यादा समय लगता है। रेड बॉल जहां सिर्फ 2 दिनों में तैयार हो जाती है तो पिंक बॉल औसतन आठ दिन का समय लेती है। पिंक बॉल को बनाने के लिए इंपोर्टेड लेदर का इस्‍तेमाल किया जाता है। इसकी अंदरूनी परत कॉर्क और रबर से मिलकर बनती है जिसके ऊपर पिंक कलर के लेदर के दो हिस्‍सों को सिला जाता है।

 

 

Image

 

 

78 टांके लगकर जुड़ती हैं दोनों परतें
पिंक बॉल का बाहरी हिस्‍सा दो भागों में बंटा होता है जिसे सिलाई करके जोड़ा जाता है। इन दोनों हिस्‍सा को तीन लाइनों में सिलकर जोड़ दिया जाता है। पूरी बॉल की सिलाई में कुल 78 टांके लगाए जाते हैं। तैयार पिंक बॉल की गोलाई 22.5 सेंटीमीटर होती है। इस बॉल के दोनों में हिस्‍सों में सिलाई की वजह से ओस में भी इसे सीम कराने में आसानी होती है। बनकर तैयार पिंक बॉल का कुल वजन 156 ग्राम होता है।…Next

 

 

Read More:

गुलाबी गेंद से होने वाले मैच के सारे टिकट बिके, अब तक इन टीमों ने खेला है इस गेंद से मैच

विश्‍व के 96 दिग्‍गज बल्लेबाज जो नहीं कर पाए वो अकेले सचिन तेंदुलकर ने कर दिया

रोहित शर्मा ने इस टीम को सबसे ज्‍यादा धोया, टेस्‍ट क्रिकेट के यह 4 रिकॉर्ड भी कर दिए धराशायी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *