Menu
blogid : 312 postid : 1268

ज्वाला गुट्टा : उड़ान कुछ पाने की

इस समय भारतीय बैंडमिटन में जहां साइना नेहवाल के चर्चे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी ज्यादा हो रहे हैं वहीं एक नाम ऐसा भी है जिसे नेशनल लेवल पर शायद साइना नेहवाल से भी ज्यादा पहचाना जाता है और वह हैं 13 बार की नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप की विजेता ज्वाला गुट्टा.


ज्वाला गुट्टा को भारत की सबसे बेहतरीन महिला डबल्स बैडमिंटन खिलाड़ी माना जाता है. बाएं हाथ से खेलने के बाद भी उनकी सफलता में कोई कमी नहीं आई है. श्रुति कुरियन (Shruti Kurien) के साथ मिलकर वह भारत की सबसे धमाकेदार बैडमिंटन जोड़ी बनाती हैं. तेज-तर्रार दिखने वाली ज्वाला गुट्टा अपने खेल में भी तेजी के लिए जानी जाती हैं.


Jwala Guttaज्वाला गुट्टा की प्रोफाइल

7 सितंबर, 1983 को ज्वाला गुट्टा का जन्म वर्धा, महाराष्ट्र (Wardha, Maharashtra) में हुआ था. उनके पिता एम. क्रांति तेलुगु और मां येलन(Mrs. Yelan) चीन से हैं. ज्वाला गुट्टा की प्रारंभिक पढ़ाई हैदराबाद से हुई और यहीं से उन्होंने बैडमिंटन खेलना भी शुरू किया.


ज्वाला गुट्टा का शुरुआती कॅरियर

10 साल की उम्र से ही ज्वाला गुट्टा ने एस.एम. आरिफ (S.M. Arif) से ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था. एस.एम. आरिफ भारत के जाने माने खेल प्रशिक्षक हैं जिन्हें द्रोणाचार्य अवार्ड से सम्मानित किया गया है. पहली बार 13 साल की उम्र में उन्होंने मिनी नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप (Mini National Badminton Championship) जीती थी. साल 2000 में ज्वाला गुट्टा ने 17 साल की उम्र में जूनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप (Junior National Badminton Championship) जीती. इसी साल उन्होंने श्रुति कुरियन के साथ डबल्स में जोड़ी बनाते हुए महिलाओं के डबल्स जूनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप (Women’s Doubles Junior National Championship) और सीनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप  में जीत हासिल की. श्रुति कुरियन (Shruti Kurien) के साथ उनकी जोड़ी काफी लंबे समय तक चली. 2002 से 2008 तक लगातार सात बार ज्वाला गुट्टा ने महिलाओं के नेशनल युगल प्रतियोगिता में जीत हासिल की.

महिला डबल्स के साथ-साथ ज्वाला गुट्टा ने मिश्रित डबल्स में भी सफलता हासिल की और भारत की डबल्स में सबसे बेहतरीन खिलाड़ी बनीं.


jwala-guttaनेशनल लेवल पर तो ज्वाला गुट्टा का कॅरियर बहुत ही शानदार रहा है पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनका खेल कुछ खास नहीं रहा. कई अहम मुकाबलों में ज्वाला गुट्टा ने क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल तक का सफर तय किया पर वह इससे आगे नहीं बढ़ सकीं. हालांकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ज्वाला गुट्टा ने डबल्स में अच्छा प्रदर्शन किया.


हाल ही में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भी ज्वाला गुट्टा ने भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता. कॉमनवेल्थ गेम्स के बाद से एक बार फिर ज्वाला गुट्टा भारतीय बैडमिंटन में चर्चा का विषय बन गई हैं.


ज्वाला गुट्टा की जिंदगी

मैदान पर बाएं हाथ से तेज-तर्रार शॉट लगाने वाली ज्वाला निजी जिंदगी में भी काफी तेज और चर्चाओं में छाई रहती हैं. हाल ही में उन्होंने अपने पति पूर्व बैडमिंटन खिलाड़ी चेतन आनंद से तलाक लिया है. चेतन आनंद भी एक बेहतरीन भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं. दोनों ने साल 2005 में शादी की थी और 2011 में तलाक ले लिया. हाल ही में ज्वाला गुट्टा और पूर्व स्टार क्रिकेट खिलाड़ी मोहम्मद अजहरुद्दीन के बीच अफेयर की खबरें काफी चर्चा में आई थीं जिसे बाद में दोनों ने ही नकार दिया.


ज्वाला गुट्टा की उपलब्धियां

  • रिकॉर्ड 13 बार नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप की विजेता.
  • भारत की सबसे बेहतरीन डबल्स प्लेयर.
  • साल 2011 में उन्हें “अर्जुन अवार्ड” से सम्मानित किया गया.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *