Menu
blogid : 312 postid : 1391527

20 दिन पहले एक क्रिकेटर आईसीसी के बैन से मुक्त हुआ तो अब दूसरे पर प्रतिबंध लगने वाला है

Rizwan Noor Khan

19 Nov, 2020

क्रिकेट गतिविधियों को निष्पक्ष, ईमानदार तरीके से संचालित करने के लिए आईसीसी ने कई तरह के कठोर नियम बनाए हैं। इन नियमों का उल्लंघन करने पर खिलाड़ी या टीम से जुड़े लोगों पर जीवन भर के लिए प्रतिबंध लगाया जा सकता है या जेल जाना पड़ सकता है। 20 दिन पहले बांग्लादेश के दिग्गज क्रिकेटर एक साल के बैन को पूरा कर क्रिकेट मैदान पर वापस लौटें है और अब श्रीलंका के पूर्व गेंदबाज पर प्रतिबंध लगने वाले हैं। क्योंकि वह नियमों के उल्लंघन के दोषी पाए गए हैं।

शाकिब अल हसन की प्रतिबंध अवधि पूरी
बांग्लादेश के दिग्गज ​आलराउंडर शाकिब अल हसन को आईसीसी ने अक्टूबर 2019 भ्रष्‍टाचार संबंधी नियमों के उल्‍लंघन का दोषी पाया था। शाकिब पर आरोप था कि जनवरी 2018 में बांग्लादेश, श्रीलंका और जिम्बांब्वे के बीच खेली गई त्रिकोणीय श्रंखला के मैच फिक्स करने के लिए बुकीज ने शाकिब से संपर्क किया था। सीरीज में दो बार बुकीज शाकिब के संपर्क में आए थे। इसके अलावा 2018 आईपीएल में भी बुकीज ने शाकिब से संपर्क साधा था।

बुकीज के संपर्क में आए थे शाकिब
शाकिब ने बुकीज की बात नहीं मानी थी। लेकिन, बुकीज के संपर्क में आने की बात शाकिब ने आईसीसी से छिपा ली थी। आईसीसी के कान तक जब यह बात पहुंची तो शाकिब ने के बुकीज से संपर्क की बात कुबूल कर ली थी और जांच में सहयोग करने का भरोसा दिया था। इस पर आईसीसी ने शाकिब पर लगाए गए दो साल के प्रतिबंध को घटाकर एक साल का कर दिया था। 29 अक्टूबर को शाकिब के बैन की अवधि पूरी हुई है और वह क्रिकेट मैदान पर वापस लौट पाए हैं।

श्रीलंका के नुवान भ्रष्टाचार के दोषी पाए गए
शाकिब अल हसन पर बैन हटने के 20 दिन बाद ही श्रीलंका के पूर्व तेज गेंदबाज और कोच नुवान जोएसा को भ्रष्टाचार संबंधी नियमों के उल्लंघन का दोषी पाया है। नुवान जोयसा 2018 में ही दोषी पाए गए थे, लेकिन वह खुद के बचाव के लिए उच्चस्तरीय सुनवाई के इरादे से ट्रिब्यूनल चले गए थे। ट्रिब्यूनल ने सुनवाई के बाद उन्हें तीन मामलों में दोषी पाया है। 42 साल के नुवान जोयसा ने श्रीलंका की तरफ से 30 टेस्ट और 95 वनडे मैच खेले हैं।

आईसीसी कभी भी लगा सकता है बैन
नुवान पर मैच के परिणाम को प्रभावित करने की कोशिश करना, मैच में शामिल खिलाड़ियों को बहकाना—उकसाना और उन्हें फंसाना, भ्रष्टाचार गतिविधियों में शामिल लोगों को खिलाड़ियों और मैच संबंधी जानकारी मुहैया कराने जैसे गंभीर आरोप लगे थे, जिनकी पुष्टि 2018 में आईसीसी की आंतरिक जांच में हो चुकी थी। लेकिन, नुवान स्वतंत्र जांच के लिए ट्रिब्यूनल गए थे, ट्रिब्यूनल ने सभी आरोपों को सही पाया है। नुवान पर आईसीसी की ओर लगने वाले प्रतिबंधों की घोषणा कभी भी की जा सकती है।…NEXT

 

ये भी पढ़ें : बांग्लादेश के शाकिब अल हसन पर लगा बैन की अवधि पूरी

10 बल्लेबाज जिन्हें फुटबॉल की तरह दिखी बॉल और जड़े दोहरे शतक

आईपीएल 2020 के बेस्ट प्लेयर्स की लिस्ट देखें

टी20 इतिहास का वो मैच जिसमें 10 बल्लेबाज शून्य पर पवेलियन लौटे

5 बल्लेबाज जिनके इशारों ने लूट ली महफिल, जड़ेजा और हार्दिक छाए

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *