Menu
blogid : 312 postid : 1388949

पैसों की तंगी के चलते कभी लड़कों से कुश्‍ती लड़ती थी दिव्‍या, एशियन गेम्‍स में जीता मेडल

Shilpi Singh

22 Aug, 2018

अपने पहले ही एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली भारत की महिला पहलवान दिव्या काकरान ने अपनी सफलता से सबको खुश कर दिया है। दिव्या ने कांस्य पदक के मैच में चीनी ताइपे की चेन वेनलिंग को 10-0 से तकनीकी दक्षता के आधार पर मुकाबल जीत अपने पहले ही एशियाई खेलों में पदक जीता। लेकिन उऩका सफर इतना आसान नहीं था, मेडल जीतने के लिए उन्होंने बहुत संघर्ष किए हैं। ऐसे में चलिए एक सफर उनके पहलवान बनने पर।

 

 

लड़को से पैसों के लिए करती थी कुश्ती

दिव्या का परिवार आर्थिक रुप से उतना सशक्त नहीं था, इसलिए उन्हें कई बार पैसों की तंगी से होकर गुजरना पड़ता था। दिव्या ने एक इंटरव्यू में अपने बचपन को याद करते हुए कहा था कि, वो गांव में लड़को से सिर्फ इसलिए कुश्ती करती थीं क्योंकि उन्हें जीतने के बाद पैसे मिलते थे और यहीं से उन्होंने खुद को कुश्ती के लिए तैयार भी किया था।

 

 

दिव्या के पिता करवाते से दंगल

दिव्या के पिता को पता था कि उनकी आर्थिक स्थिती अच्छी नहीं है और यही वजह थी की वो दिव्या को लड़को से कुश्ती करवाते थे। दिव्या के पिता ने भी इंटरव्यू में इस बात को माना था कि उनकी बेटी इतनी अच्छी कुश्ती थी कि लड़के हार जाते और दिव्या लड़की होकर अखाड़े में जाती थी इसलिए उसे इनाम के तौर पर ज्यादा पैसे मिलते थे।

 

 

दूध नहीं ग्लूकोज से भरती थी पेंट

दिव्या भले ही आज अपने पहलवानी के लिए अच्छा डाइट ले रही हों, लेकिन जब वो शुरूआती के दिनों में कुश्ती करती थीं तो उनके पास दूध तक के पैसे नहीं होते थे। दिव्या कई बार ग्लूकोज से अंदर एनर्जी लाती थी। वहीं दिव्या के पिता घर खर्च के लिए दंगलों में लंगोट बेचा करते थे।

 

 

ओलंपिक में गोल्ड जीतना है सपना

हर खिलाड़ी की तरह दिव्या भी चाहती हैं कि वो रेसलिंग की दुनिया में न केवल मेडल जीते बल्कि भारत को ओलंपिक में गोल्ड जीतकर भारत का नाम रोशन करें। 20 साल की दिव्या ने कहा, ‘मैं बहुत मेहनत की है और हमेशा करूंगी। मेरा सपना है कि ओलंपिक में मेडल जीतकर परिवार और देश का नाम रोशन करूं’।…Next

 

Read More:

ब्राजील के गोलकीपर एलिसन के लिए लगाई गई रिकॉर्ड बोली, इस टीम का बनेंगे हिस्सा

फीफा वर्ल्ड कप विजेता फ्रांस 260 करोड़, तो बाकी टीमें घर ले गईं इतना पैसा

जल्द ही होगा फुटबॉल विश्व कप के विजेता का फैसला, बीते 10 फाइनल मुकाबलों में यह टीमें बनीं विश्व विजेता

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *