Menu
blogid : 316 postid : 738826

क्या वाकई ‘अल्लाह’ ने उन्हें बाजार में बेचने का फरमान जारी किया है! जानना चाहेंगे डर के साये में जीने को मजबूर करती यह घटना?

उनका गुनाह था कि वो स्कूल जाना चाहती थीं, अपने पैरों पर खड़ा होने का उनमें जज्बा था, वह किसी पर निर्भर होकर नहीं बल्कि आत्मनिर्भर होकर जीना चाहती थीं. लेकिन अफसोस कोई था जो ऐसा नहीं चाहता था. वह उन्हें गुलाम बनाकर रखना चाहता था, जो पंख खोलकर उड़ सकती थीं उन्हें सिर्फ अपने इशारों पर नचाना चाहता था. इसलिए उसने एक साथ उन 300 लड़कियों को अगवा कर उन्हें बेचने का फरमान दे डाला. स्कूल जाते समय उन मासूमों को अगवा कर लिया और अब उनके लिए खरीददार ढूंढ़ रहा है.



यूं तो एशियाई देशों में महिलाओं की स्वतंत्रता, उनके भीतर पनप रही आत्मनिर्भर होने जैसी प्रवृत्ति को हमेशा से ही दबाया जाता रहा है लेकिन अफ्रीका का जो चेहरा इस बार सबके सामने आया है वह हिलाकर रख देने वाला है.


violence

नाइजीरिया के एक इस्लामिक टेरोरिस्ट ग्रुप ने स्कूल जाने वाली 300 मासूम छात्राओं को सिर्फ इसलिए अगवा कर लिया है क्योंकि उस ग्रुप के लोगों का मानना है कि लड़कियों का पाश्चात्य शिक्षा ग्रहण करना एक बहुत बड़ा गुनाह है.


Read: उस शराब की बोतल से जुड़ी थी हिटलर की किस्मत, अब यह मनहूस बोतल किसके नसीब में होगी यह वक्त बताएगा


बोको हरम (पाश्चात्य शिक्षा वर्जित है) के लीडर अबुबकर शेखाव ने एक वीडियो भेजकर इस बात को कबूल किया है कि जितनी भी लड़कियां गायब हुई हैं उनका अपहरण उसके ग्रुप ने किया है. अल्लाहु अकबर के नारे लगाते हुए और आसमान में गोलियां चलाते हुए उसने अपनी एक वीडियो रिकॉर्ड की है जिसमें उसने अपना यह गुनाह कबूला है.


nigeria girls


नाइजीरियाई राष्ट्रपति गुडलक जोनाथन का कहना था कि किसी भी गिरोह ने इस अपहरण की जिम्मेदारी नहीं ली लेकिन उनके ये कहने के मात्र 24 घंटे के भीतर ही बोको हरम नामक आतंकवादी गिरोह ने लड़कियों को अपहरण कर उन्हें बेचने जैसी बात कबूल कर ली है.



इस वीडियो में अबुबकर का कहना है कि लड़कियों को स्कूल भेजना, उन्हें पढ़ाना-लिखाना बिल्कुल गलत है, इस उम्र में उनकी शादी कर देनी चाहिए और अल्लाह ने उसे उन लड़कियों को बेचे जाने जैसा निर्देश दिया है क्योंकि वह अल्लाह की ही संपत्ति हैं.



वहीं दूसरी ओर राष्ट्रपति जोनाथन की पत्नी पेशेंस जोनाथन का कहना है कि किसी भी लड़की के अगवा होने जैसी बात सामने नहीं आई है इसलिए इस वीडियो और अबुबकर शेखाव की बात पर भरोसा करना सही नहीं है.


boko haram

इससे पहले ये खबर भी आई थी कि लड़कियों को अगवा नहीं बल्कि उन्हें अपनी दुल्हन बनाने के लिए उनके अपहकर्ताओं ने मात्र 12 डॉलर देकर खरीदा है. लड़कियां अगवा हुई हैं या उन्हें बेचा गया है यह बात तो अभी तक क्लियर नहीं हो पाई है लेकिन नाइजीरिया में सरकार की इस असफलता और लड़कियों को वापस लाने जैसी मुहिम के चलते विरोध-प्रदर्शनों का दौर शुरू हो चुका है.


boko haram

Read: चार साल की उम्र में ड्रग और एल्कोहल! भरोसा नहीं तो इसे पढ़ें


भारत समेत अन्य एशियाई देशों में महिलाओं के उत्पीड़न, उनके मानसिक और शारीरिक शोषण करने जैसी प्रवृत्ति दिनों-दिन बढ़ती जा रही है और स्त्री के प्रति हिंसक होती यही मानसिकता उसके विकास में बाधक साबित हो रही है. एक तरफ तो हम लड़के-लड़कियों के बीच समानता की बात करते हैं, उन्हें आगे बढ़ने के समान अवसर देने की बात करते हैं लेकिन फिर जब ऐसी घटनाएं सामने आती हैं तो दोगले समाज का खतरनाक चेहरा सामने आता है. हम कोशिश करने के हजार दावे क्यों ना कर लें लेकिन कभी परंपरा तो कभी धर्म के नाम पर स्त्री शोषण की दास्तां आगे बढ़ती रहती है, जिसका अंत होना अब तो नामुमकिन ही लगने लगा है.



Read More:

उस खौफनाक मंजर का अंत ऐसा होगा……..सोचा ना था

पांच वर्ष की उम्र में मां बनने वाली लीना की रहस्यमय दास्तां

इनकी सूरत में आप अपना भी भविष्य देख सकते हैं लेकिन ध्यान से, हकीकत डरवानी होती है!

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *