Menu
blogid : 316 postid : 1390636

जापान में हाई हील्स के खिलाफ शुरू हुआ #KUTOO कैम्पेन, एक फरमान के बाद महिलाओं ने उठाई आवाज

Pratima Jaiswal

22 Mar, 2019

अगर ऑफिस में कोई ऐसा ऑर्डर आए जिसमें आपको लंच में एक ही किस्म का खाना लाने को कहा जाए या एक ही कपड़ों को पहनने के लिए कहा जाए तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी? सीधी-सी बात है इस ऑर्डर को फॉलो कर पाना लगभग नामुमकिन सा होगा। खासकर आप एक आधुनिक दौर में हो। ऐसे में आवाज उठना लाजिमी है। ऐसी ही आवाज इन दिनों जापान से उठती हुई दिखाई दे रही है। जापान के दफ्तरों में महिलाओं को हाई हील्स पहनना अनिवार्य है। हाई हील के कारण कई बार महिलाओं को कई तरह की शारीरिक परेशानी भी होती है। जापान टाइम्स के अनुसार, इसी के विरोध में महिलाओं ने सोशल मीडिया पर यह अभियान शुरू किया है। दफ्तरों में अनिवार्य ड्रेसकोड और महिलाओं के लिए हाई हील्स अनिवार्य रहने के विरोध में यह अभियान चलाया जा रहा है।

 

 

सोशल मीडिया पर चला #kutoo अभियान
जापान में ड्रेसकोड और हाई हील्स के खिलाफ चलाए जा रहे इस अभियान को सोशल मीडिया पर काफी समर्थन मिल रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स हाई हील्स और फॉर्मल ड्रेस कोड अनिवार्य रखने को पुरानी सामंती मानसिकता को ही आगे ले जानेवाली परंपरा बताई जा रही है।

सोशल मीडिया पर बयां कर रही हैं अपने अनुभव
हाई हील्स का विरोध करते हुए जापान में महिलाएं हील्स की वजह से हुई शारीरिक परेशानियों को सांझा कर रही हैं और लम्बे समय तक इसे पहने रहने से तनाव और दूसरी परेशानियों पर भी लिख रही हैं। हाई हील्स के विरोध में महिलाओं का तर्क है कि इससे एड़ी में दर्द, कमर दर्द जैसी कई शारीरिक तकलीफों से भी गुजरना पड़ता है। महिलाओं ने इसके विरोध में लिखा, ‘जूते पहनने की बाध्यता नहीं होनी चाहिए। यह एक तरह की महिला विरोधी मानसिकता है, जिसमें महिलाओं को स्वास्थ्य की अनदेखी कर हाई हील्स पहनने पड़ते हैं।’

 

 

पुरूषों के लिए भी है अलग ड्रेसकोड
जापान के दफ्तरों में महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए ही ड्रेसकोड अनिवार्य है। पुरुषों को भी फॉर्मल ड्रेसकोड के साथ क्लीनशेव रहना अनिवार्य है। महिलाओं के ड्रेसकोड में हाई हील्स भी अनिवार्य है।…Next

 

Read More :

सोशल मीडिया पर झूठे प्यार में फंसने के खिलाफ पुलिस ने छेड़ा अभियान, जानें क्या है रोमांस स्कैम

20 मौतों में से एक की वजह शराब, WHO की 500 पन्नों की रिपोर्ट में सामने आई ये बातें

2,874 बाल आश्रय गृहों में से सिर्फ 54 के मिले पॉजिटिव रिव्यू, NCPCR की रिपोर्ट सामने आई ये बातें

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *