Menu
blogid : 316 postid : 1390467

रोजमर्रा की ये आदतें बना सकती हैं हेपेटाइटिस का मरीज, ऐसा करना आज से ही बंद कर दीजिए

Pratima Jaiswal

31 Jan, 2019

हम में से बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिनकी कुछ ऐसी आदतें होती हैं जो बचपन से होती हैं। किसी और के लिए वो आदतें अजीब हो लेकिन उनके लिए वो आदतें उनकी दिनचर्या में शामिल हो जाती हैं। कई बार ये आदतें उनकी सेहत के लिए भी ठीक नहीं होती और आगे चलकर कई बीमारियों का कारण बन जाती हैं।  इनमें से कई आदतों के बारे में जान लीजिए क्योंकि ये हेपेटाइटिस का कारण बन सकती हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO के मुताबिक हर साल लाखों लोग हेपेटाइटिस से संक्रमित होते हैं और हजारों लोग इस रोग से पीड़ित होकर अपनी जान गंवा देते हैं। हेपेटाइटिस के वायरस 5 तरह के होते हैं- हेपेटाइटिस ए, बी, सी, डी और ई और इनकी वजह से लिवर में जलन और संक्रमण हो जाता है।

 

 

पानी की गुणवत्ता
अगर आप घूमने-फिरने के शौकीन हैं, तो आपका पानी भी बदलता रहता होगा। कई जगहों पर पानी की गुणवत्ता सही नहीं होती और पानी की वजह से सबसे ज्यादा इंफेक्शन होता है। ऐसे में कहीं बाहर जाएं तो कोशिश करें कि अपनी बॉटल साथ लेकर जाएं या फिर मिनरल वॉटर ही पिएं।

 

लोकल बाजार से गाजर, मूली या फलों को उठाकर खाना
साप्ताहिक बाजार में फल-सब्जियां रेहड़ी पर मिलती हैं। ऐसे में उन्हें ताजा रखने के लिए बार-बार पानी का छिड़काव किया जाता है। ऐसे में ये बहुत जरूरी है कि घर लाकर उन सब्जियों-फलों को धोकर खाया जाए। रेहड़ी से उठाकर कुछ भी खाने से बचें।

 

सिर्फ पानी से हाथ धोना नहीं है काफी
हेपेटाइटिस ए के वायरस शरीर के बाहर भी महीनों तक जी सकते हैं। इसलिए आपको साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना जरूरी है। इसके लिए आपको हाथों को हमेशा ऐंटि-बैक्टीरियल साबुन, लिक्विड हैंडवॉश या सैनिटाइजर से साफ रखना चाहिए।

 

 

किसी और के मेकअप प्रॉडक्ट के इस्तेमाल से बचें
कभी भी दूसरों का मेकअप प्रॉडक्ट नहीं इस्तेमाल करना चाहिए। इसका कारण है कि ये बेहद पर्सनल चीज है और अगर व्यक्ति हेपेटाइटिस का रोगी नहीं भी है मगर उसके शरीर पर इसके वायरस हैं तो उसके मेकअप प्रॉडक्ट्स, शैंपू, क्रीम आदि के जरिए ये वायरस आपको भी प्रभावित कर सकते हैं।

 

सी फूड पूरी तरह पका ही खाएं
कई लोग सी फूड को हल्का सा पानी में नम करके खाते हैं लेकिन ऐसा करना हेपेटाइटिस को बुलावा देना हो सकता है। समुद्र या किसी भी तरह की नदी में काफी मात्रा में बैक्टीरिया मौजूद होते हैं। ऐसे में सी फूड को पूरी तरह पकाकर या अच्छी तरह उबालकर ही खाएं…Next

 

 

Read More :

रूम हीटर नहीं धूप सेंकना से होगा आपके लिए फायदेमंद, ब्रेस्ट कैंसर और डायबिटीज के रोगियों पर पड़ता है सकरात्मक असर

राजधानी दिल्ली में एक्टिव हो चुका है लूटमार करने वाला सॉरी गैंग! ऐसे रखें सावधानी

तम्बाकू से भी ज्यादा खतरनाक है प्रदूषण, हर 8 में से 1 मौत की वजह

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *