Menu
blogid : 316 postid : 1391174

अंडरवियर से पहचाना गया दुनिया का सबसे खूंखार आतंकवादी, जमीन में छिपाए था अरबों रुपये का खजाना

Rizwan Noor Khan

29 Oct, 2019

दुनिया के सबसे खूंखार आतंकवादियों में शामिल अबू बकर अल बगदादी की पहचान उसकी अंडरवियर से की गई है। हाल ही में आईएस के सरगना इस आतंकी को सीरिया और अमेरिकी फौज के ज्‍वाइंट ऑपरेशन में ढेर किया गया है। मौत के बाद उसकी पुष्टि के लिए उसके अंडरवियर का इस्‍तेमाल किया गया। बगदादी की मौत से कुछ दिन पहले ही कुर्दिश लड़ाके इस अंडरवियर को चुराकर ले गए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक उसने रेगिस्‍तान में 250 लाख डॉलर की नकदी छिपा रखी थी।

 

 

 

सीरियाई सैनिक चुरा ले गया था अंडरवियर
सीरीआई डेमोक्रेटिक फोर्सेज के जनरल मजलूम आब्‍दी ने डेली मेल अखबार को दिए इंटरव्‍यू में यह बताया है कि उनकी फोर्स का एक आदमी बगदादी के गिरोह में शामिल हो गया था। उसी ने मौका पाकर कुछ दिन पहले ही बगदादी की अंडरवियर चुराकर उन्‍हें मुहैया कराई थी। इसके बाद अमेरिकी और सीरियाई फौज के ज्‍वाइंट ऑपरेशन में आईएस के सरगना और दुनिया के सबसे खूंखार आतंकवादियों की लिस्‍ट में शामिल बगदादी को मार गिराया गया।

 

 

 

Image result for general mazloum abdi

 

 

सीरियाई जनरल ने पुष्टि की
जनरल मजलूम आब्‍दी ने कहा कि हमने अपने आदमी को बगदादी की गतिविधियों को समझने के लिए उसके गिरोह में शामिल किया था। दरअसल, हम चाहते थे कि जब ज्‍वाइंट ऑपरेशन हो और वह गोली से या बम धमाके में मारा जाए तो उसकी पहचान करने में समस्‍या न आए। उन्‍होंने कहा कि ज्‍वाइंट ऑपरेशन के दौरान बम धमाके में बगदादी ढेर हो गया। भीषण धमाके के चलते उसके चीथड़े उड़ गए। अंडरवियर और खून के सैंपल के जरिए उसके डीएनए की जांच की गई। जांच में पता चला कि मारा गया आतंकी बगदादी ही था।

 

 

Image result for sdf forces

 

 

कुछ ही मिनटों में पता चल गया था
रिपोर्ट्स के मुताबिक भीषण धमाके की चपेट में आए बगदादी के सिर के चीथड़े नहीं हुए थे। इसके चलते उसकी पहचान में और भी आसानी हुई। क्‍योंकि चेहरे की पहचान करने वाले स्‍कैनर की जांच में भी मारा गया आतंकी बगदादी ही था। यह जांच ऑपरेशन के 15 मिनट बाद ही पता चल गई थी, लेकिन पुष्टि के लिए डीएनए जांच जरूरी थी। इसलिए उसकी अंडरवियर और खून के सैंपल की जांच से भी पुष्टि की गई।

 

 

Image result for sdf army

 

 

लादेन की पहचान के लिए लैब गए थे सुरक्षाबल
2011 में अमेरिकी फौज के ऑपरेशन में मारे गए ओसामा बिन लादेन की पुष्टि के लिए काफी मशक्‍कत करनी पड़ी थी। उसके शव के टुकड़ों को लैब ले जाकर जांच की गई थी। इस जांच के बाद ही पुष्टि हुई थी कि मारा गया आतंकी ओसामा बिन लादेन है। पाकिस्‍तान के एबटाबाद में ओसामा बिन लादेन के मौजूद होने की खबरों के बाद अमेरिकी सैनिकों की टीम ने खुफिया ऑपरेशन के जरिए उसे ढेर किया था।…Next

 

Read More: जेएनयू स्‍कॉलर अभिजीत बनर्जी को अर्थशास्‍त्र का नोबेल प्राइज मिला, अमर्त्‍य सेन को भी मिल चुका है नोबेल 

पिछले साल इसलिए नहीं दिया गया था साहित्‍य का नोबेल पुरस्‍कार, सच्‍चाई जानकर चौंक जाएंगे आप

सबसे बुजुर्ग नोबेल पुरस्‍कार विजेता बना अमेरिका का यह रसायन शास्‍त्री, सबसे युवा विजेता में पाकिस्‍तानी युवती का नाम

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *