Menu
blogid : 316 postid : 1389436

अब डिजिटल होगा पोस्ट ऑफिस का अकाउंट, 34 करोड़ खाताधारकों को होगा फायदा

पोस्‍ट ऑफिस में बचत खाता धारकों को मई से पूरी तरह डिजिटल बैंकिंग सर्विस मिलनी शुरू हो जाएगी। इससे पोस्‍ट ऑफिस के 34 करोड़ बचत खाता धारकों को फायदा होगा। दरअसल, सरकार की तरफ से इंडिया पोस्‍ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) के साथ इन अकाउंट्स को लिंक करने की मंजूरी दिए जाने के बाद से बचत खाताधारकों को डिजिटल बैंकिंग मिलने का रास्‍ता साफ हो गया।

 

 

पोस्‍ट ऑफिस के खाते होंगे डिजिटल

वित्‍त मंत्रालय ने पोस्‍ट ऑफिस के बचत खातों को आईपीपीबी खातों के साथ लिंकिंग की अनुमति दे दी है। इससे पोस्‍ट ऑफिस के खाताधारक अपने अकांउट से किसी भी बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने में सक्षम हो जाएंगे। पोस्‍ट ऑफिस में 34 करोड़ बचत खाता हैं। इनमें से 17 करोड़ पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स बैंक अकाउंट्स हैं। बाकी बचत खातों में मंथली इनकम स्‍कीम, रेकरिंग डिपॉजिट आदि शामिल है।  सभी 1.55 लाख डाकघर शाखाओं को IPPB से जोड़ने की योजना है। भारतीय डाक ने कोर बैंकिंग सेवा शुरू की है लेकिन वह केवल डाकघरों में बचत बैंक खातों में धन अंतरण की सुविधा दे रहा है।

 

 

क्या होंगे फायदें

PPB का संचालन रिजर्व बैंक (RBI) करता है जबकि डाकघर की बचत बैंक सेवा वित्त मंत्रालय के अधीन आती है। IPPB ग्राहक बैंक ग्राहकों के लिये उपलब्ध NEFT, RTGS तथा IMPS सेवा का उपयोग कर सकते हैं। एक बार डाकघर बचत खातों को को IPPB से जोड़ने पर, डाकघर के बचत खाता रखने वाले ग्राहक बैंकों की तरह धन अंतरण का लाभ उठा सकेंगे।

 

 

देश में बनेगा सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क

सरकार के इस कदम से देश में सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क बनकर तैयार हो जाएगा। इंडिया पोस्‍ट की योजना सभी 1.55 लाख पोस्‍ट ऑफिस शाखाओं को आईपीपीबी से लिंक करना है। इंडिया पोस्‍ट कोर बैंकिंग सर्विस शुरू कर चुका है लेकिन इसके तहत मनी ट्रांसफर की सुविधा पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स बैंक (पीओएसबी) अकाउंट्स के बीच ही मिलती है।

 

 

कस्‍टमर चाहे तो ही मिलेगी यह सर्विस

पोस्‍ट ऑफिस के बचत खाताधारकों को डिजिटल बैंकिंग सर्विस उनकी मर्जी के अनुसार ही मिलेगी। यानी सर्विस पूरी तरह वैकल्पिक होगी। यदि खाताधारक यह सर्विस लेना चाहता है तो उसे अकाउंट को आईपीपीबी अकाउंट से लिंक किया जाएगा। इससे पहले जारी आधिकारिक बयान के अनुसार, इंडिया पोस्‍ट का प्‍लान इस मह से सभी 650 आईपीपीबी ब्रांचेज को शुरू करना है। सभी 650 ब्रांचेज जिलों में छोटे पोस्‍ट ऑफिसेस कनेक्‍ट होंगे। आईपीपीबी ब्रांच और सभी एक्‍सेस प्‍वाइंट पोस्‍ट नेटवर्क से लिंक होंगे। करीब 1.55 लाख पोस्‍ट ऑफिसेस हैं। इनमें से 1.3 लाख ब्रांच ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। इस तरह, 1.55 लाख ब्रांच के साथ इंडिया पोस्‍ट भारत का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क बन जाएगा।Next

 

 

 

 

Read More:

ऐसी फोन कॉल आने पर रहें अलर्ट, नहीं तो बैंक अकाउंट हो जाएगा खाली!

अब DTC बस के लिए नहीं करना पड़ेगा इंतजार, मोबाइल बता देगा आने का सही समय

1 अप्रैल से आपकी सैलरी में होंगे ये बदलाव, जानें फायदा होगा या नुकसान

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *