Menu
blogid : 316 postid : 1139367

ज्योतिष से सलाह लेकर अपने दो साल के बेटे को मरने के लिए छोड़ दिया, एक डेनिश महिला बनी मसीहा

उसकी उम्र इतनी भी नहीं थी कि वो अपना नाम आसानी से बता पाता, उसका शरीर इतना कमजोर था कि वो खुद अपने शरीर का वजन उठा पाने में असमर्थ था. लेकिन फिर भी उसके माता-पिता ने उसे सड़क पर मरने के लिए छोड़ दिया. उसका कसूर सिर्फ इतना था कि वो नाइजीरियाई कैलेंडर अनुसार उस दिन जन्मा था जिस दिन काली शक्तियां या फिर भूत जन्मा करते हैं. ऐसा हम नहीं बल्कि उस दो साल के बच्चे के असंवेदनशील माता-पिता का कहना है. जिन्होंने एक ज्योतिष की सलाह लेकर अपने दो साल के बेटे को, अपने बेहतर भविष्य के लिए सड़क पर बिना कपड़ों के अकेले छोड़ दिया.


boy 1


Read : 1994 के इस गैंगस्टर की जिदंगी को, एक रात में बदला एक दूसरी दुनिया के शख्स ने

हैरत की बात ये है कि भीड़ में से किसी ने इस बच्चे की ओर ध्यान नहीं दिया और बच्चा कई दिनों तक बिना कुछ खाए-पिए बेलगाम सड़कों पर घूमता रहा. लेकिन कहते हैं न, भीड़ में भी कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनका अलग वजूद होता है. उस बच्चे के लिए मसीहा बनकर आई एक डेनिश महिला. जो कि अफ्रीका की रहने वाली थी. ‘अंजा रिंगग्रेन लोवन’ नाम की महिला ने इस बच्चे को सड़क पर घूमते देख सबसे पहले अपने पास बुलाया. इसके बाद बच्चे को पानी पिलाया.

boy2

Read : समाज ने किया बहिष्कार, परिवार ने भी नहीं दिया साथ लेकिन फिर भी इन दोनों ने पेश की एक नई मिसाल

उन्होंने अपनी रेस्क्यू टीम को तुंरत बुलाकर बच्चे को तौलिए में लपेटा. अंजा, ‘अफ्रीकन चिल्ड्रन एड एजुकेशन एंड डेवलपमेंट फांउडेशन’ की फांउडर है. उन्होंने दुनिया भर से ऐसे कई बच्चों को रेस्क्यू किया है जिन्हें डायन या भूत बताकर सड़क पर मरने के लिए छोड़ दिया जाता है. गौरतलब है नाइजीरिया और कई अफ्रीकन देशों में बच्चों को काली शक्तियों के समय जन्मा, जैसी धारणा के चलते पैदा होते ही मार दिया जाता है.


boy3

दूसरी तरफ कई माता-पिता अपने बच्चों को मरने के लिए सड़क पर फेंक देते हैं. अंजा के मुताबिक इस तरह की पुरानी धारणा से ऊपर उठकर ही, किसी की किस्मत चमक सकती है. अगर किसी भी माता-पिता को ये लगता है कि अपने बच्चे को भूत-डायन समझकर छोड़ने से वो परेशानियों से बच सकते हैं तो ऐसा सरासर गलत है. क्योंकि कर्मों का फल किसी भूत-डायन से ज्यादा घातक होता है…Next

Read more

मंदिर में जाने पर लगा दी रोक तो इस समुदाय ने उठाया ये अनोखा कदम, बना दिया इतिहास

400 कुत्तों को रोजाना 8 हजार की लागत से खाना खिलाते हैं ये 60 साल के दंपत्ति

तिहाड़ आइडल: सलाखों के पीछे छुपे कैदियों के ऐसे हुनर को देखकर आप रह जाएंगे दंग

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *