Menu
blogid : 316 postid : 1394732

कोरोना के संभावित इलाज में फेल हुई दवा, दुनियाभर में कराए गए ट्रायल्स में नहीं मिली सफलता

Rizwan Noor Khan

1 Sep, 2020

दुनियाभर में मुसीबत की वजह बनी कोरोना महामारी को थामने और इससे संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए चिकित्सा विज्ञानी दवा खोजने में जुटे हुए हैं। इस बीच कोरोना के इलाज में मददगार होने का दावा जिस दवा के लिए किया जा रहा था वह परीक्षण में फेल हो गई है। शुरुआती दिनों में दवा के लिए अनुमान लगाया गया था कि अगर यह इलाज में सफल होती है तो कोरोना मरीजों के लिए रामबाण हो सकती है।

परीक्षण में दवा फेल होने से लगा बड़ा झटका
रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार दवा निर्माता कंपनी सैनोफी कंपनी ने कहा है कि कोरोना के संभावित इलाज में कारगर दवा परीक्षण में फेल हो गई है। फ्रांस की दवा कंपनी सैनोफी और अमेरिकी दवा कंपनी रेजेनरॉन इस दवा पर कोरोना के इलाज की संभावनाओं के लिए परीक्षण कर रहे थे।

 

सैनोफी और रेजेनरॉन कर रहे थे दवा का परीक्षण
रिपोर्ट के अनुसार सैनोफी और रेजेनरॉन ने मिलकर गठिया के इलाज में काम आने वाली दवा केवाजारा (Kevzara) को हल्के कोरोना लक्षण वाले मरीजों पर कारगर होने की संभावनाओं को तलाश रहे थे। दवा का दुनियाभर के तमाम कोरोना संक्रमितों पर परीक्षण किया गया। ताजा रिसर्च में दवा के फेल होने की बात सामने आ गई।

 

जुलाई में आई पहली रिपोर्ट में नहीं थे अच्छे रिजल्ट
​सैनोफी के मुताबिक इस दवा का इस्तेमाल निमोनिया जैसे कोरोना के शुरुआती लक्षणों वाले मरीजों पर इस्तेमाल किया गया। लेकिन, परिणाम सकारात्मक नहीं आए। सैनोफी ने इससे पहले जुलाई में इस दवा के परीक्षण पर आई शुरुआती रिसर्च के बाद कहा था कि रिपोर्ट सकारात्मक नहीं आई है।

वैक्सीन ​बनाने की दिश में मिल रही मदद
सैनोफी के प्रमुख जॉन रीड ने कहा कि दवा के परीक्षण से हमें जो उम्मीद थी वह हासिल नहीं हो सकी है। लेकिन, कोरोना महामारी से लड़ने के लिए हमारे परीक्षण ने हमारी समझ को आगे बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि सैनोफी वैश्विक महामारी से निपटने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। हम वैक्सीन विकसित करने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

रेमडेसिविर भी परीक्षण में हो चुकी है फेल
इससे पहले अमेरिकी दवा कंपनी गिलिएड साइंसेज की एंटी वायरल दवा रेमडेसिविर का पहला परीक्षण फेल हो चुका है। परीक्षण से पहले तक रेमडेसिविर से कोरोना का इलाज करने की उम्मीद जताई गई थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्‍लूएचओ) ने अप्रैल में दावा किया था कि रेमेडेसिविर दवा का चीन में मरीजों पर किया गया ट्रायल सफल नहीं हो सका।…NEXT

 

Read More:  म्यूजियम से 132 करोड़ की पेंटिंग चोरी

भारत में 3 वैक्सीन पर हो रहा ट्रायल, एक फाइनल फेज में

रूस अक्टूबर में रजिस्टर करेगा दूसरी कोरोना वैक्सीन

आक्सीजन सपोर्ट पर हैं 2.62 फीसदी कोरोना मरीज

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *