Menu
blogid : 316 postid : 1391192

प्रलय की चपेट में आ गया इटली का सबसे खूबसूरत शहर, कुछ सेकेंड में जलमग्‍न हो गई धरती

Rizwan Noor Khan

14 Nov, 2019

ऐसा कहा जाता है कि दुनिया का अंत प्रलय के जरिए होगा। कर्नाटक, उत्‍तराखंड में पिछले सालों में लोगों ने प्रलय के हालात देखे हैं। यहां बड़े पैमाने पर जान माल का नुकसान हुआ था। बड़ी संख्‍या में इमारतें धराशायी हुई थी और जंगल, पहाड़ों के टूटने से जनजीवन तहस नहस हो गया था। कुछ ऐसे ही हालात इन दिनों इटली में बने हुए हैं। यहां के सबसे खूबसूरत शहर को प्रकृति के कोप का भागी बनना पड़ा है। हालात इतने खराब हो गए हैं कि सरकार ने पूरे शहर को आपदाग्रस्‍त घोषित कर दिया है।

 

The flooded crypt of St Mark's Basilica is pictured during a moment of exceptionally high water levels in Venice. [Manuel Silvestri/Reuters]

 

 

वेनिस आपदाग्रस्‍त घोषित
इटली का सबसे खूबसूरत वेनिस इन दिनों प्रलय के हालात झेल रहा है। मंगलवार रात अचानक समंदर की लहरों ने विशाल रूप अख्तियार कर लिया। जब तक कोई कुछ समझ पाता लहरों ने पूरे शहर में तबाही मचा दी। तेज हवा के झोंकों के साथ आने वाली लहरों ने इमारतों को भी ढहा दिया है। वेनिस शहर के मेयर ने शहर को आपदाग्रस्‍त घोषित कर दिया। हालात को देखते हुए पूरे शहर में बचाव कार्य तेज कर दिया गया है।

 

 

Tables and chairs bobbed along alleyways in the dark, as locals and tourists alike waded through the streets, the water slopping over the top of even the highest boots. [Andrea Merola/EPA]

 

 

सेंटर स्‍क्‍वॉयर डूबा
मेयर लुइगी ब्रूगनारों ने सोशल मीडिया के जरिए बताया है कि पूरा शहर जलमग्‍न हो चुका है। तूफान की भयंकर लहरों के चलते यहां की सबसे चर्चित इमारत सेंटर माक्‍स स्‍क्‍वॉयर डूब गया है। इसके अलावा यहां की एक और खूबसूरत इमारत बेसिलिका भी समुद्र के जल में डूब गई है। वेनिस के हाल देखकर पर्यावरणविद् चिंतनीय हैं। पर्यावरणविद् के मुताबिक यह जलवायु परिवर्तन का नतीजा है।

 

 

A photographer takes pictures in a flooded St Mark's Square in Venice. [Luca Bruno/AP Photo]

 

 

दूसरी बार आया समुद्री तूफान
पर्यटकों की सबसे पसंदीदा जगहों में शुमार वेनिस इससे पहले भी समंदर का तूफान झेल चुका है। 1966 में भी समंदर में आए भीषण ज्‍वार के कारण पूरे शहर में तबाही का मंजर दिखा था। 7 फीट की ऊंचाई तक उठीं लहरों ने कई इमारतों को ढहा दिया था। तब भी यहां की खूबसूरती को बड़ा नुकसान पहुंचा था। इस बार पहले से कहीं ज्‍यादा तबाही हुई है।…Next

 

 

Read More: समुद्र मंथन से निकले कल्‍प वृक्ष के आगे नतमस्‍तक हुई सरकार, इसलिए बदला गया वृक्ष काटने का फैसला

अंडरवियर से पहचाना गया दुनिया का सबसे खूंखार आतंकवादी, जमीन में छिपाए था अरबों रुपये का खजाना

सबसे बुजुर्ग नोबेल पुरस्‍कार विजेता बना अमेरिका का यह रसायन शास्‍त्री, सबसे युवा विजेता में पाकिस्‍तानी युवती का नाम

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *