Menu
blogid : 316 postid : 1395119

अक्टूबर में कोरोना से सबसे कम मौतें, मरीजों की रिकवरी का रिकॉर्ड

Rizwan Noor Khan

12 Oct, 2020

देश में कोरोना महामारी को काबू करने में सफलता हासिल हो रही है। आंकड़े बताते हैं कि चिकित्सकों और फ्रंटलाइन वॉरियर्स की मेहनत रंग ला रही है। यही वजह है कि सितंबर के मुकाबले अब तक अक्टूबर में सबसे कम मौतें हुई हैं। जबकि, रिकवरी रेट अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। अभी यह और ऊपर जाएगा।

Image courtesy : REUTERS

10 दिनों में सबसे कम नए केस मिले
कोरोना के नए पॉजिटिव मामले लगातार घटते दिख रहे हैं। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 66,732 नए मामलों की पुष्टि की गई है। पिछले दस दिनों में नए मरीजों की यह सबसे कम संख्या है। हालांकि, अभी भी 5 से 8 हजार के बीच मामलों में उतार चढ़ाव देखा जा रहा है।

अक्टूबर में सबसे कम मौतें
चिकित्सकों की मेहनत और स्वास्थ्य तंत्र की तेज प्रक्रिया के चलते कोरोना संक्रमितों की मौत की संख्या में अक्टूबर में भारी कमी दर्ज की गई है। पिछले 24 घंटे में 816 संक्रमितों की मौत हुई है। जबकि, सितंबर में लगभग हर दिन 1 हजार से अधिक जानें गई हैं। 1 अक्टूबर से अब तक प्रतिदिन मरने वालों की संख्या मी कमी आ रही है।

रोजाना जितने मरीज मिले उससे ज्यादा रिकवर हुए
कोरोना मरीजों की रिकवरी में बड़े स्तर पर सफलता मिल रही है। पिछले कई दिनों से हर दिन जितने नए मरीज मिल रहे हैं उससे कहीं अधिक रिकवर किए जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 66,732 पॉजिटिव केस मिले जबकि इससे ज्यादा 71,559 संक्रमितों को रिकवर करने में कामयाबी हासिल हुई। इसके साथ ही रिकवरी रेट 86.4 फीसदी पर जा पहुंचा है।

कोरोना के 8 लाख एक्टिव केस बचे
स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 71,20,539 हो गई है। इसमें से 61,49,536 मरीजों को पूरी तरह ठीक किया जा चुका है। जबकि, 1,09,150 मरीजों की मौत हो चुकी है। देश में अब सिर्फ 8,61,853 एक्टिव केस बचे हैं।…NEXT

 

Read More: भारत की मदद से 150 देश कोरोना संक्रमण थामने में कामयाब

इन 10 देशों में एक भी कोरोना मरीज की मौत नहीं

यूपी के 10 हजार पुलिसकर्मी हो चुके हैं कोरोना संक्रमित

नाक और मुंह मास्क से ढंके होने पर आंखों से एंट्री ले सकता है कोरोना

इस गांव में 16 अगस्त तक एक भी मरीज नहीं था पर अब हर चौथा शख्स पॉजिटिव

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *